उत्तराखंड : इंद्र देवता की नाराजगी, किसानों पर पड़ रही भारी

695

imagesउत्तराखंड से इंद्र देवता का नाराजगी अब किसानों को भारी पड़ने लगी है। जनवरी के महीने के खत्म होने तक बरसात ना होने से प्रदेश के किसान मायूस हैं। बारिश ना होने से इसका सीधा असर किसानों के खेती पर पड़ने लगा है। समय पर बारिश ना होने से जहां खेतों में ही किसानों की फसल मुरझाने लगी है, वहीं किसान फसल की बुवाई तक नहीं कर पा रहे हैं। इंद्र देवता की नाराजगी का सबसे ज्यादा असर सरसों, गेहूं और जौ की पैदावार पर पड़ रहा है। प्रदेश में शुष्क मौसम के कारण किसानों की करीब 25 प्रतिशत से अधिक की खेती प्रभावित हो चुकी है। किसानों का कहना है कि जल्द बारिश ना हुई तो बची हुई फसल भी इसकी भेंट चढ़ जाएगी। कृषि विशेषज्ञों का भी मानना है कि एक सप्ताह में अगर बरसात हो जाती है तो भी काफी हद तक स्थिति सुधर सकती है, लेकिन अगर इंद्र देवता रूठे रहे तो किसानों के सामने रोजी – रोटी का संकट खड़ा हो जाएगा। हालांकि किसानों के एक राहत देने वाली ख़बर ये है कि मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों में प्रदेश में बर्फबारी और बारिश की संभावना जतायी है, ऐसे में किसान यही दुआ कर रहे हैं कि आसमान से राहत की बरसात जल्द हो।