खटीमा-सितारगंज मार्ग की दुर्दशा पर बिफरे मुख्यमंत्री, अधिकारियों को लगाई फटकार

Ca6jb3iUcAAI8Wtमुख्यमंत्री हरीश रावत का खटीमा-सितारगंज सड़क मार्ग से नानकमत्ता पहुंचना सालों से दुर्दशा की शिकार इस सड़क के साथ ही स्थानीय निवासियों कि लिए कम से कम अच्छी ख़बर लेकर आया। सड़क की दुर्दशा पर मुख्यमंत्री हरीश रावत ने एनएच, लोक निर्माण विभाग के अभियंता को कड़ी फटकार लगाई और तत्काल सड़क मार्ग का निर्माण शुरु करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री जनसंवाद कार्यक्रम के लिए नानकमत्ता पहुंचे थे। इस दौरान मुख्यमंत्री ने ननाकमत्ता में स्थानीय लोगों की समस्याएं सुनी और उनके शीघ्र निराकरण के निर्देश अधिकारियों को दिए। रावत ने कहा कि सरकार जनसमस्याओं के निराकरण के लिए गंभीर है। इस लिहाज से जनसंवाद कार्यक्रम शुरू किए गए। इस मौके पर मुख्यमंत्री हरीश रावत ने नानकमत्ता में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नानकमत्ता को रीठा साहिब से जोड़े जाने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री रावत ने सितारगंज चीनी मिल आधुनिकीकरण किए जाने के साथ ही वर्ग चार, वर्ग एक, छह व सात संबंधी भूमि मामलों के तेजी से निस्तारण किए जाने की बात कही। सीएम रावत ने नानकमत्ता इंटर कालेज में वर्ष 2016-17 से विज्ञान की कक्षाएं खोलने का भी आश्वासन दिया। क्षेत्रवासियों की मांगों पर रावत ने नानकमत्ता की इटौवा से खमरिया तक सड़क का निर्माण कराने के लिए जिलाधिकारी अक्षत गुप्ता को ‘मेरे गांव मेरी सड़क योजना’ के तहत कार्य शुरु करना के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने शहीद जितेंद्र सिंह राणा के नाम पर क्षेत्र के शिक्षण संस्थान का नाम रखे जाने का भी ऐलान किया।