वित्तीय प्रबन्धन सीख लें तो कार्यक्षेत्र में कभी असफल नहीं होंगे: कुंजवाल

460

Kunjwalव्यक्ति जीवन में वित्तीय प्रबन्धन सीख लें तो वह अपने कार्यक्षेत्र में कही भी असफल नही हो सकता तथा जिस कार्य हेतु व्यक्ति ऋण लेता है उसका उपयोग उसी कार्य में करते हुये ऋणों की अदायगी समय से करे यह बात प्रदेष विधानसभा अध्यक्ष गोविन्द सिंह कुंजवाल ने नाबार्ड के सहयोग से अल्मोड़ा जिला सहकारी बैक द्वारा लमगड़ा विकास खण्ड सभागार में आयोजित सहकारिता एवं वित्तीय जागरूकता कार्यक्रम के सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में कही। उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति को जो आमदनी प्राप्त हो रही है उसका सही ढ़ग से उपयोग कर बचत तथा फिजूल खर्चों पर नियंत्रण  वित्तीय प्रबन्धन के माध्यम से किया जा सकता है। उन्होंने कहा छोटी-छोटी बचत व्यक्ति के आडे समय मे काम आ सकती है। इस लिये लोगों को बैंक मेें अपना खाता खोलकर अपनी आमदनी को बैंक में जमा कर बैंक द्वारा दिये गये ब्याज का लाभ लेने चाहिये साथ ही बैंेक से लिये गये ऋणों का सही सद्प्रयोग करते हुये ऋण की आदयगी समय से करनी चाहिये।

उन्होंने कहा कि देश के विकास व लोगों के आर्थिक स्तर को ऊॅचा उठाने में बैंकों की अहम भूमिका है। उन्होंने कहा कि जिला सहकारी बैंक साधन सहकारी समिति के माध्यम से सीधे गाॅव से जुड़े है इसलिये आज समितियों को भी मजबूत करने की जरूरत है। उन्होंने जिला सहकारी बैंक के इस प्रयास की सराहना करते हुये कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 राजीव गांधी विकास की सोच की तहत आज सरकारी योजनाओं का लाभ पात्र लोगों तक पहुचाने का सभी सामाजिक, राजनैतिक व्यक्तियों का दायित्व है। उन्होंने राज्य सरकार की जनकल्याण कारी योजनाओं की जानकारी घर-घर पहुचाने का आवह्न करते हुये कहा कि प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत केन्द्रीय ग्राम्य विकास मंत्रालय द्वारा स्वीकृत सड़कों निर्माण हेतु धनराषि आंवटित न किये जाने से स्वीकृत सड़कों टैण्डर नही हो पा रहे है। इसके बावजूद भी राज्य सरकार जायका, विष्व बैंक, नाबार्ड से ऋण लेकर काम कर रही है।