उत्तराखंड में भाजपा सरकार में चार पुराने कांग्रेसी बने कैबिनेट मंत्री

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत की कैबिनेट में नौ रत्न शामिल हुए। रावत कैबिनेट को देखें तो उनकी कैबिनेट सूबे के जातीय गणित की कसौटी पर फिट बैठती है।

टीएसआर कैबिनेट में चार ब्राह्मण चेहरों को जगह मिली जबकि उनके सहित चार राजपूतों को और दो दलित चेहरों को जगह दी गई।
सबसे दिलचस्प बात ये है कि टीएसआर कैबिनेट में पूर्व कांग्रेसियों का भाजपा आलाकमान ने पूरा ख्याल रखा है।

बगावत कर भाजपा मे शामिल कई कांग्रेसियों को मंत्रिमंडल में जगह दी गई है। जिनमें हरक सिंह रावत, यशपाल आर्य, सुबोध उनियाल, रेखा आर्य शामिल हैं। वहीं पूर्व कांग्रेसियों के तौर पर सतपाल महाराज को जगह दी गई। हालांकि सतपाल महाराज ने कांग्रेस 2014 के लोकसभा चुनाव में ही छोड़ दी थी। जबकि बाकि कांग्रेसियों ने बाद में पाला बदला था।

बहरहाल सबसे दिलचस्प बात ये है कि टीएसआर मंत्रीमंडल मे खांटी भाजपा खेमे से चार ही लोगों को जगह मिली। जिनमें प्रकाश पंत, मदन कौशिक, अरविंद पांडे, और धन सिंह रावत शामिल हैं।

ये हैं कैबिनेट मंत्री, जानिए

सतपाल महाराज: लोकसभा चुनाव 2014 के समय कांग्रेस से बगावत कर भाजपा में आए। रेल राज्य मंत्री रह चुके महाराज सीएम पद की दौड़ में भी शामिल थे।

मदन कौशिक: भाजपा के बड़े नेता हैं, हरिद्वार से लगातार चौथी बार जीतकर आए हैं। मैदान में भाजपा का बड़ा चेहरा हैं।

प्रकाश पंतः भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं, सीएम की दौड़ में भी पूरी तरह शामिल रहे हैं। 2007 में भाजपा सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं।

यशपाल आर्य: आर्य कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में शुमार थे। वे कांग्रेस सरकार में कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। टिकट बंटवारे से ठीक पहले आर्य बेटे संजीव आर्य समेत कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हो गए थे।

डॉ. हरक सिंह रावतः कांग्रेस से बगावत कर भाजपा के टिकट पर कोटद्वार से जीतकर आए हैं। कांग्रेस सरकार में भी कैबिनेट मंत्री रहे हैं।

सुबोध उनियालः कांग्रेस से बगावत में अहम भूमिका रही। पूर्व सीएम विजय बहुगुणा के खास हैं। नरेंद्रनगर से जीतकर आए हैं।

अरविंद पांडेः गदरपुर से भाजपा विधायक अरविंद पांडे लगातार चौथी बार विधायक रह चुके हैं। वे पालिकाध्यक्ष भी रह चुके हैं। वे ऊधमसिंह नगर में भाजपा के बड़े चेहरे हैं।

धन सिंह रावतः आरएसएस से लंबे समय तक जुड़े रहे हैं। श्रीनगर से चुनाव जीतकर आए हैं। केंद्र में अच्छी पकड़ है।

रेखा आर्यः कांग्रेस से बगावत कर भाजपा में आई रेखा आर्य भी सांसद और पूर्व सीएम कोश्यारी की करीबी हैं। महिला होने के नाते मंत्रीमंडल में जगह मिली है।