हल्द्वानी | कोरोना संकट से निपटने के लिए कितना तैयार है जिला प्रशासन, यहां जानिए

हल्द्वानी (उत्तराखंड पोस्ट) जनपद में कोरोना संक्रमण रोकने हेतु व्यवस्थाओं के लिए सरकार द्वारा नामित प्रभारी मंत्री यशपाल आर्य ने सोमवार की दोपहर सर्किट हाउस में जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन के साथ ही स्वास्थ्य महकमे के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की।

प्रभारी मंत्री आर्य ने निर्देश दिये कि बाहर से आ रहे लोगों को अनिवार्य रूप से कोरेन्टाइन कराया जाए तथा गांवों में बाहर से आने वाले लोगों को चिन्हित किया जाए तथा उनका स्वास्थ्य परीक्षण भी किया जाए। गांव मे बाहर से आने वाले लोगों का चिन्हिकरण एवं उनका डाटा तैयार करने हेतु स्वास्थ्य कर्मियों के साथ ही आशा, आंगनबाडी, पटवारी, ग्राम विकास अधिकारी व क्षेत्र पंचायत सदस्य व ग्राम प्रधानों का भी सहयोग लिया जाए।

उन्होंने कहा कि गांव मे बाहर शहरों से आने वाले लोगों को ग्राम पंचायत घरों, स्कूलों मे रोकने हेतु चिन्हित किया जाए तथा वही उनका प्रारम्भिक स्वास्थ्य परीक्षण भी किया जाए। जिस पर जिलाधिकारी सविन बंसल ने बताया कि जनपद में 27 स्वास्थ्य टीमें बनाकर ग्रामीण स्तरों तक स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है। मंत्री ने गांवों की स्वास्थ्य व अन्य समस्याओं को सुनने व पंजीयन हेतु तहसील स्तर पर भी कन्ट्रोल रूम बनाने के निर्देश दिये।

21 दिन के लॉकडाउन को आगे बढ़ाने पर आया केंद्र सरकार का बयान, जानिए यहां

उन्होने जिलाधिकारी बंसल से जनपद में कोरोना के संक्रमण रोकने हेतु बनाये गये आइसोलशन वार्ड, कोरेन्टाइन सैन्टर व शेल्टर की विस्तृत जानकारी ली। जिस पर जिलाधिकारी बंसल ने बताया कि मोतीनगर व प्रसार प्रशिक्षण केन्द्र बागजाला में कोरेन्टाइन सेन्टर बनाये गये है तथा सुशीला तिवारी चिकित्सालय व बेस में कोरोना हेतु ओपीडी व आइसोलेशन वार्ड बनाये गये है। उन्होने बताया कि बाहर से आने वाले यात्रियों व श्रमिकों के लिए एफटीआई, स्टेडियम हल्द्वानी, एमबीपीजी कालेज में शेल्टर बनाये गये है तथा यात्रियों हेतु चिकित्सकीय परीक्षण के साथ ही खाने-पीने की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है।

उन्होंने जनपद में खाद्यान, सब्जी, फल की सुचारू व्यवस्था हेतु आवश्यक वस्तुओं के वाहनों का नियमित आवागमन सुनिश्चित किया जाए ताकि एक ओर जहां ग्रामीण क्षेत्रों मे खाद्यान आपूर्ति बने रहे वही गांवों मे उगने वाली साग-सब्जी मण्डियों तक लाया भी जा सके। उन्होने गरीब असहायों को नियमित सस्ते गल्ले दुकानों से खाद्यान उपलब्ध कराने के निर्देश दिये।

उत्तराखंड | घर जाने की उम्मीदों को लगा झटका, सरकार ने निरस्त किया आदेश

बैठक मे आरएफसी ललित मोहन रयाल ने बताया कि खाद्यान की कोई कमी नही है, मिलों को मांग के अनुसार गेहू उपलब्ध कराया गया है यह निर्देश दिये गये है कि इस दौर में गेहू से केवल आटा ही बनाया जाए सूजी और मैदा नही बनाया जाए ताकि बाजार में आटे की आपूर्ति सुचारू बनी रहे। उन्होने बताया कि जनपदोें के सभी गोदामों को खाद्यान पर्याप्त उपलब्ध करा दिये गये है।

मुख्य विकास अधिकारी विनीत कुमार ने बताया कि जनपद मे आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई चैन बनाये रखने हेतु उद्यमियों के साथ बैठक कर ली गई है आवश्यक वस्तुओं के उद्योग संचालन हेतु उद्यमी तैयार है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार मीणा ने बताया कि शासन द्वारा जारी एडवाइजरी के अनुसार पुलिस चैबीय घंटे तत्परता के साथ कार्य कर रही है, चैकिंग के अलावा पुलिस कर्मी  प्रशासन द्वारा बनाई जा रही व्यवस्थाओं मे सहयोग कर रही है।

उत्तराखंड | लॉकडाउन में पूरी सैलरी नहीं दी और घर खाली करवाया तो दर्ज होगा मुकदमा

प्रभारी मंत्री आर्य ने जनपद में कोरोना की रोकथाम हेतु किये गये कार्यो पर संतोष व्यक्त करते हुये शाबासी दी तथा और कहा कि इसी मनोयोग तथा टीम भावना से इस संक्रमण काल मे सभी अधिकारी व कर्मचारी काम करें।

बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार मीणा,अपर जिलाधिकारी कैलाश सिह टोलिया, सीएमओं डा. भारती राणा, आरटीओ राजीव मेहरा, नगर आयुक्त सीएस मर्तोलिया, सिटी मजिस्टेट प्रत्यूष सिह, जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी, उपजिलाधिकारी विवेक राय, अधीक्षण अभियन्ता लोनिवि रणजीत सिह रावत, जिला पूर्ति अधिकारी मनोज बर्मन, प्रभारी कन्टोल रूम डा. धनपत कुमार, जिलाध्यक्ष भाजपा प्रदीप बिष्ट आदि मौजूद थे।

Youtube – http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost

Twitter– https://twitter.com/uttarakhandpost                                

Facebook Page– https://www.facebook.com/Uttrakhandpost