2019 लोस चुनाव | बीजेपी सांसद ने पार्टी को चेताया, मेरा टिकट कटा तो भुगतना पड़ेगा परिणाम

1373

उन्नाव (उत्तराखंड पोस्ट) लोकसभा चुनाव की तारीखों का एलान होने के साथ ही नेताओं में टिकट को लेकर खींचतान शुरु हो गई है। बीजेपी के उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज ने अपना टिकट कटने के डर से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय को चिट्ठी लिखकर कहा है कि अगर उन्हें 2019 के चुनाव में टिकट नहीं दिया गया तो पार्टी को हार के रूप में परिणाम भुगतना पड़ेगा।

साक्षी महाराज ने पत्र में लिखा कि मैंने पिछले पांच वर्षों में करोड़ों रुपये खर्च कर और दिन-रात एक कर जिले में पार्टी को मजबूत किया है। 2014 के चुनाव में मैंने तीन लाख 15 हजार वोटों से चुनाव में जीत दर्ज की थी। अगर इस बार भी मुझे टिकट दिया गया तो मैं चार से पांच लाख वोटों से जीत दर्ज करूंगा।

सांसद ने लिखा है, ‘मैंने उन्नाव संसदीय लोकसभा सीट पर 2014 में तीन लाख पंद्रह हजार वोटों से जीत दर्ज की थी। लोकसभा में कांग्रेस और बीएसपी की जमानत जब्त हुई थी। एसपी दूसरे नंबर पर रही थी। इस बार बीएसपी-एसपी के गठबंधन में यह सीट एसपी के खाते में गई है। एसपी की ओर से पार्टी के कद्दावर नेता अरुण कुमार शुक्ला या अन्य किसी ब्राह्मण के लड़ने की पूरी संभावना है।’

बीजेपी सांसद ने इस पत्र में जातीय समीकरण का विवरण दिया है। इसमें लिखा है कि संसदीय क्षेत्र में लोधी, कहार, निषाद, कश्यप, मल्लाह के पांच लाख वोट हैं, अन्य पिछड़ा वर्ग के पांच लाख वोटर हैं। ब्राह्मण के एक लाख नब्बे हजार, क्षत्रीय के एक लाख पचास हजार, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छह लाख पचास हजार, मुस्लिम वोटर एक लाख बीस हजार और अन्य सवर्ण वोटर पचास हजार हैं।

साक्षी महाराज ने लिखा, ‘मुझे छोड़कर ओबीसी का कोई भी प्रतिनिधित्व नहीं है। वैसे भी पार्टी पर ओबीसी की उपेक्षा का आरोप यदा-कदा लगता रहता है। सांसद ने इशारों में कहा कि अगर पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया तो पार्टी पर ओबीसी की उपेक्षा का जो आरोप लगता है वह सही साबित होगा। उन्होंने लिखा कि उनके अलावा ओबीसी का कोई प्रतिनिधित्व जनपद में है ही नहीं।’

सांसद ने लिखा कि जिले में जिला पंचायत अध्यक्ष ठाकुर, बांगरमऊ से विधायक कुलदीप सिंह ठाकुर, पुरवा से भी बीजेपी विधायक अनिल सिंह ठाकुर, एमएलसी राजबहादुर चंदेल ठाकुर, ह्रदय नारायण दीक्षित विधानसभा अध्यक्ष ब्राह्मण, अरुण कुमार पाठक एमएलसी ब्राह्मण, पंकज गुप्ता सदर विधायक वैश्य, मोहान विधायक ब्रजेश रावत पासी और सफीपुर विधायक बंबालाल दिवाकर धोबी हैं। ‘अगर पार्टी ने मुझे लोकसभा में यहां से टिकट नहीं दिया तो प्रदेश और देश के करोड़ों कार्यकर्ताओं के आहत होने की पूरी आशंका है, जिसका परिणाम सुखद नहीं होगा।’

साक्षी महाराज ने लिखा कि पार्टी उन्हें टिकट देगी तो वह महागठबंधन के प्रत्याशी अरुण कुमार शुक्ला और कांग्रेस प्रत्याशी अन्नू टंडन दोनों की जमानत जब्त करके पार्टी को चार-पांच लाख वोटों के अंतर से जिताएंगे। उन्नाव सीट के अलावा उनका कहीं और से लड़ने का इरादा नहीं है। उन्हें विश्वास है कि उनके साथ अन्याय नहीं होगा। पार्टी अध्यक्ष उनके साथ न्याय करेंगे।

इस पर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय का कहना है कि उन्हें अभी साक्षी महाराज का कोई पत्र नहीं मिला है, जहां तक टिकट की बात है तो इसका फैसला बीजेपी का संसदीय बोर्ड करेगा।

हमें ट्विटर पर फॉलो करेंhttps://twitter.com/uttarakhandpost

हमारा फेसबुक पेज लाइक करें – https://www.facebook.com/Uttrakhandpost/