नगर पालिका अध्यक्ष पद पर भाजपा ने दिया बागी उम्मीदवार को समर्थन, जानिए वजह

362

उत्तरकाशी (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तरकाशी की बड़कोट नगर पालिका सीट पर भाजपा की अध्यक्ष पद की आधिकारिक प्रत्याशी के दौड़ से बाहर होने के बाद अब भाजपा ने टिकट न मिलने से पार्टी से बगावत कर चुनाव लड़ने वाली निर्दलीय कृष्णा राणा को समर्थन देने का ऐलान किया है।

आपको बता दें कि उत्तरकाशी जिला पंचायत अध्यक्ष जशोदा राणा ने नगर पालिका अध्यक्ष का चुनाव लड़ने के लिए अपना नाम ग्राम पंचायत की निर्वाचन नामावली से कटवा दिया था और बड़कोट नगर पालिका के वार्ड नंबर-3 में नाम दर्ज कराने के लिए निर्वाचन आयोग में आवेदन किया लेकिन इससे पहले कि उनका नाम दर्ज होता पुरोला से जिला पंचायत सदस्य दीपक बिजल्वाण ने इस पर ऐतराज़ जता दिया।

ऐसे में नगर पालिका अध्यक्ष पद के लिए बीजेपी की ओर से नामांकन कर चुकीं जशोदा राणा ने पालिका क्षेत्र में नाम दर्ज न होने पर हाईकोर्ट की शरण ली। इस पर बिजल्वाण ने भी हाईकोर्ट में यह तथ्य रखा कि जशोदा राणा का देहरादून के सीमाद्वार नगर निगम वार्ड संख्या-40 में दर्ज है।

जिस पर हाईकोर्ट ने मंगलवार को निर्वाचन आयोग को जशोदा राणा के मामले पर जल्द फ़ैसला करने को कहा। निर्वाचन आयोग ने बिजल्वाण की शिकायत को सही पाया और उत्तरकाशी निर्वाचन अधिकारी को इसकी जानकारी दी कि जशोदा राणा का नाम देहरादून की वोटर लिस्ट में दर्ज है। इसके बाद उत्तरकाशी में वोटर लिस्ट में उनका नाम शामिल नहीं किया गया।

हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने गुरुवार को निर्वाचन आयोग के फ़ैसले पर मुहर लगाई थी। जशोदा राणा ने सिंगल बेंच के फ़ैसले को डबल बेंच में चैलेंज किया था आज खंडपीठ ने भी सिंगल बेंच के फ़ैसले को सही ठहराया।

अपनी अधिकारिक प्रत्याशी के दौड से बाहर हो जाने से बीजेपी ने बीजेपी ने निर्दलीय उम्मीदवार कृष्णा राणा को समर्थन देने का ऐलान कर दिया।

बहरहाल भाजपा एक तरफ बागियों पर सख्त कार्रवाई की बात कर रही है तो दूसरी तरफ बड़कोट में अपने प्रत्याशी के दौड़ से बाहर होने पर एक बागी का ही अब समर्थन कर रही है। अब पार्टी नेता इस पर क्या तर्क देते हैं ये देखने वाली बात होगी लेकिन इस सीट पर बागी उम्मीदवार के समर्थन से भाजपा की कथनी और करनी का फर्क नजर आने लगा है।

www.uttarakhandpost.com

Follow us on twitter – https://twitter.com/uttarakhandpost

Like our Facebook Page – https://www.facebook.com/Uttrakhandpost/