Home मेरा उत्तराखंड

मेरा उत्तराखंड

ज़ायका उत्तराखंड का : ऐसे तैयार होता है स्वादिष्ट ‘सिंगल’

देहरादून  उत्तराखंड के कुमाऊं का पारंपरिक व्‍यंजन है सिंगल। वैसे तो इसे आप कभी भी बना सकते हैं पर दीवाली और होली जैसे त्‍योहारों पर...

उत्तराखंड | जानिए अपने लोक नृत्य को : छोलिया मतलब छल !

देहरादून  छोलिया, कुमाऊं का प्रसिद्ध परम्परागत लोक नृत्य है जिसका इतिहास सैकड़ों-हजारों वर्ष पुराना है। पुराने वक्त से ही छोलिया नृत्य उत्तराखंड की सांस्कृतिक पहचान...

उत्तराखंड के पंचप्रयाग : जहां स्नान करने से धुल जाते हैं सारे पाप

देहरादून प्रयाग का अर्थ है नदियों का संगम। भारत में कुल 14 संगम या यूं कहें प्रयाग स्थित है। इनमें से 5 प्रयाग...

ज़रूर देखें | भारत का स्विट्जरलैंड…कौसानी

कौसानी  कौसानी यानी भारत का स्विट्जरलैंड। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने उत्तराखंड के इस खूबसूरत स्थान के लिए यही कहा था और यहां आने वाला हर...

नि:संतान दंपत्ति की झोली भरती हैं माता अनसूया, दर्शन मात्र से पूरी होती है मनोकामना

चमोली  शहर के कोलाहल से दूर, प्रकृति की गोद में, हिमालय के शिखर पर स्थित अनुसूया मंदिर तक पहुंचना किसी रोमांच से कम नहीं...

ज़ायका उत्तराखंड का : ऐसे तैयार होती है आपकी मनपसंद ‘सिंगोड़ी’

हल्द्वानी (नैनीताल) मालू पत्तों के अन्दर 'पतबीड़ा' के ढाल में ढली सिंगोड़ी का स्वाद जिसने नहीं चखा उसने ज़रूर एक शानदार चीज़ मिस...

ज़ायका उत्तराखंड का : स्वादिष्ट भट्ट की चुड़कानी बनाएं

हल्द्वानी (नैनीताल)  जितनी खूबसूरत उत्तराखंड की पहाड़ियां है उतना ही स्वादिष्ट है पहाड़ी खाना। भट्ट की चुड़कानी भी ऐसी ही एक प्रसिद्ध पहाड़ी रेसिपी...

हमारी संस्कृति | सौभाग्य का प्रतीक है ‘पिछौड़ा’, जानिए महत्व

देहरादून पिछौड़ा बेहद सादगी भरा लेकिन खूबसूरत परिधान है जिसे उत्तराखंड में सुहागिन स्त्रियां पहनती हैं। ये दुपट्टा या एक ओढ़नी की तरह...

ज़ायका उत्तराखंड का : ऐसे तैयार होती है आपकी मनपसंद ‘बाल मिठाई’

अल्मोड़ा  कुमाऊं का सांस्कृतिक शहर अल्मोड़ा तीनों चीजों के लिए जाना जाता है। ये हैं - बाल (बाल मिठाई), माल (माल रोड) और पटाल...

जानिए उत्तराखंड में कहां पर है भगवान गणेश का कटा हुआ सिर ?

देहरादून भगवान गणेश को विघ्‍नहर्ता भी कहा गया है। हिन्‍दू धर्म में मान्‍यता है कि किसी भी शुभ काम को शुरू करने से...

स्थापना दिवस | 9 नवंबर को हुआ था “आपुण उत्तराखंड” का उदय

देहरादून एक अलग राज्य के रूप में उत्तराखण्ड 9 नवम्बर 2000 को अस्तित्व में आया। इससे पूर्व यह उत्तर प्रदेश राज्य का एक...

उत्तराखंड की दीपावली : पटाखे फोड़ कर नहीं, भैलो नृत्य कर मनाया जाता है दीपोत्सव

देहरादून   उत्तराखंड हर लिहाज़ से देश के बाकी हिस्सों से भिन्न है। यहां दीपावली को इगास-बग्वाल के नाम से भी जाना जाता हैं। इस...