Home मेरा उत्तराखंड

मेरा उत्तराखंड

गोलू देव | न्याय के देवता के दरबार में हर अर्जी होती है पूरी, जानिए

अल्मोड़ा (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो) गोलू देवता उत्तराखंड के न्याय के देवता हैं। इस मंदिर की कुमाऊं में न्याय देवता के मंदिर के रूप में मान्यता...

#उत्तराखंड की महिलाओं की शान है ‘उत्तराखंडी नथ’, जानिए मान्यता

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) आभूषण हर महिला के श्रृंगार का अभिन्न हिस्सा है। महिलाएं रूप निखारने के लिए तरह-तरह के आभूषण प्रारम्भ से ही...

नीलकंठ महादेव | भगवान शिव ने यहीं पिया था विष का प्याला, जानिए महिमा

ऋषिकेश (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो) ऋषिकेश से समीप मणिकूट पर्वत पर नीलकंठ महादेव मंदिर स्थित है। मान्यता है कि समुद्र मंथन के दौरान निकला विष...

जी रये जागि रये | ‘हरेला’ यानी हरियाली, सुख-समृद्धि का प्रतीक है ये पर्व, जानिए मान्यता

देहरादून हरेला उत्तराखंड के कुमाऊं का एक प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार सामाजिक सौहार्द के साथ ही कृषि और मौसम से भी संबंधित...

उत्तराखंड | क्या आपको पता है काफल की ये कहानी ? देखिए वीडियो

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट)  देवभूमि उत्तराखंड आने वाले शख्स ने अगर यहां के फलों का स्वाद नहीं लिया, तो समझिए उसने कुछ मिस कर दिया। ऐसा ही एक...

क्या आप जानते हैं ? नैनीताल के नाम के पीछे की ये रोचक कहानी

नैनीताल (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो) गर्मी की छुट्टियां मनाने के लिए जब किसी हिल स्टेशन का जिक्र होता है तो नैनीताल का नाम सबसे पहले याद आता...

केदारनाथ | 12 ज्योर्तिलिंगों में श्रेष्ठ केदारनाथ में साक्षात शिव निवास करते हैं

केदारनाथ (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो) बारह ज्योर्तिलिंगों में श्रेष्ठ केदारनाथ में साक्षात शिव निवास करते हैं। केदार उन अनगढ़ शिलाओं और शिखरों को भी कहते हैं...

भगवान बदरीनाथ की महिमा | दर्शन मात्र से ही मनुष्य मोक्ष को प्राप्त होता है

बदरीनाथ धाम को भारत के चार पवित्रों धामों में सबसे प्राचीन बताया गया है। सतयुग, द्वापर, त्रेता और कलियुग इन चार युगों की शास्त्रों...

गंगोत्री | करोड़ों लोगों की आस्था की केंद्र है गंगा, जानिए महिमा

गंगोत्री (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो) विश्व की प्राचीनतम संस्कृतियों में से एक है भारतीय संस्कृति। इस संस्कृति के आरंभ से लेकर वर्तमान तक जितने भी परिवर्तन...

नि:संतान दंपत्ति की झोली भरती हैं माता अनसूया, दर्शन मात्र से पूरी होती है मनोकामना

चमोली  शहर के कोलाहल से दूर, प्रकृति की गोद में, हिमालय के शिखर पर स्थित अनुसूया मंदिर तक पहुंचना किसी रोमांच से कम नहीं...

‘काले कौवा काले, घुघुति माला खा ले’, इसलिए मनाया जाता है “घुघुतिया” त्यौहार

हल्द्वानी (उत्तराखंड पोस्ट) 'काले कौवा काले घुघुति माला खा ले'..उत्तराखंड के कुमाउं में मकर संक्रान्ति के दिन ये आवाज़ हर घर से आती सुनाई...

ज़ायका उत्तराखंड का : इस दिवाली बनाएं ये खास पहाड़ी स्वीट डिश

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो]) दीपावली का मौका है और ऐसे में आप भी घर पर कुछ पारंपरिक मिष्ठान्न बनाने के बारे में अवश्य सोच...