Home धर्म

धर्म

गोलू देव | न्याय के देवता के दरबार में हर अर्जी होती है पूरी,...

अल्मोड़ा (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो) गोलू देवता उत्तराखंड के न्याय के देवता हैं। इस मंदिर की कुमाऊं में न्याय देवता के मंदिर के रूप में मान्यता है। जिसे कहीं कोई न्याय नहीं मिलता और जो नाउम्मीद हो चुका होता है, न्यायालय...
Kedarnath Dham Uttarakhand

केदारनाथ | 12 ज्योर्तिलिंगों में श्रेष्ठ केदारनाथ में साक्षात शिव निवास करते हैं

केदारनाथ (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो) बारह ज्योर्तिलिंगों में श्रेष्ठ केदारनाथ में साक्षात शिव निवास करते हैं। केदार उन अनगढ़ शिलाओं और शिखरों को भी कहते हैं जिनमें भगवान शिव का निवास माना जाता है। सम्पूर्ण पापों का नाश करने वाली मोक्षदायिनी केदार...

भगवान बदरीनाथ की महिमा | दर्शन मात्र से ही मनुष्य मोक्ष को प्राप्त होता...

बदरीनाथ धाम को भारत के चार पवित्रों धामों में सबसे प्राचीन बताया गया है। सतयुग, द्वापर, त्रेता और कलियुग इन चार युगों की शास्त्रों में जो महिमा कही गयी है उसके अनुसार उत्तर में सतयुग का बदरीनाथ, दक्षिण में...

गंगोत्री | करोड़ों लोगों की आस्था की केंद्र है गंगा, जानिए महिमा

गंगोत्री (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो) विश्व की प्राचीनतम संस्कृतियों में से एक है भारतीय संस्कृति। इस संस्कृति के आरंभ से लेकर वर्तमान तक जितने भी परिवर्तन हुए हैं उन सब की साक्षी है गंगा। अब ख़बरें एक क्लिक पर इस लिंक पर...

यमुनोत्री से ही शुुरु होती है चारधाम यात्रा, जानिए इनकी महिमा

                देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) पुराणों में यमुनोत्री का विशेष महत्व है। असित मुनि की निवास स्थली यमुनोत्री धाम 3235 मी० की ऊंचाई पर स्थित है। चार धाम की यात्रा में सर्वप्रथम यमुनोत्री के ही दर्शन किये जाते हैं। अब ख़बरें...

नवरात्रि | दूसरे दिन होती है मां दुर्गा के ब्रह्मचारिणी स्वरूप की पूजा

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) आदि शक्ति मां दुर्गा का द्वितीय रूप है श्री बह्मचारिणी। मां दुर्गा अपने इस रूप में पूर्ण रूप से शांत हैं साथ ही निमग्न होकर तप में लीन हैं। कठोर तप के कारण मां के मुख पर...

नि:संतान दंपत्ति की झोली भरती हैं माता अनसूया, दर्शन मात्र से पूरी होती है...

चमोली  शहर के कोलाहल से दूर, प्रकृति की गोद में, हिमालय के शिखर पर स्थित अनुसूया मंदिर तक पहुंचना किसी रोमांच से कम नहीं है। उत्तराखंड के चमोली में स्थित अनसूया माता मंदिर हिमालय की ऊंची पहड़ियों पर स्थित...

क्या आप जानते हैं ? यहां सोमवार को भी नहीं होती है भोलेनाथ की...

पिथौरागढ़ (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो) उत्तराखंड के पिथौरागढ़ से लगभग छः किलोमीटर दूर गांव बल्तिर में स्थित है, हथिया देवाल, यहां दूर-दूर से लोग आते हैं, लेकिन पूजा करने नहीं बल्की मंदिर की अनूठी स्थापत्य कला को निहारते लोग पहुंचते हैं।  यहां...

धनतेरस | ऐसे करें भगवान धन्वंतरि की पूजा, कृपा करेंगे कुबेर

देहरादून इस साल 05 नवंबर को धनतेरस का त्यौहार मनाया जाएगा। कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी पर जब ग्रहों और नक्षत्रों का अद्धुत संयोग बनता है, तब धनतेरस की पूजा होती है। इससे कुबेर प्रसन्न होते हैं और धन-संपत्ति और...

दर्शन नहीं किए तो जल्दी कीजिए, इस दिन बंद हो जाएंगे बदरीनाथ और केदारनाथ...

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) केदारनाथ धाम के कपाट परंपरानुसार भैयादूज के पावन पर्व पर नौ नवंबर को प्रात: 8.30 बजे शीतकाल के लिए बंद होंगे। वहीं द्वितीय केदार भगवान मद्महेश्वर के कपाट 22 नवंबर एवं तृतीय केदार तुंगनाथ के कपाट 29...

नवरात्रि | मां स्कंदमाता की कृपा से मूढ़ भी ज्ञानी हो जाता है

देहरादून  नवरात्र का चौथा दिन है। आज के दिन देवी दुर्गा के स्कंदमाता स्वरूप की उपासना की जायेगी। इनकी उपासना से घर-परिवार में सुख-शांति और समृद्धि बनी रहती है। स्कंद कुमार कार्तिकेय की माता होने के कारण इन्हें स्कंदमाता नाम...

नवरात्री | जन्म-जन्मान्तर के कष्टों से मुक्त करती है मां चंद्रघंटा

देहरादून  नवरात्रि के तीसरे दिन मां भगवती के तीसरे स्वरूप चंद्रघंटा देवी की पूजा अर्चना होती है। चंद्रघंटा – मां दुर्गा की तीसरी शक्ति का नाम ‘चंद्रघंटा’ है। नवरात्र उपासना में तीसरे दिन चंद्रघंटा की आराधना की जाती है। इनका स्वरूप...

MOST READ