“टीम इंडिया की जीत के लिए खुद आउट हो जाता था यह खिलाड़ी”

1616

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी युवराज सिंह के संन्यास के बाद युवराज सिंह के कोच रहे सुखविंदर बावा ने टीम इंडिया के इस पूर्व खिलाड़ी को लेकर कई राज खोले।

आपको बता दें कि युवराज 15-16 साल की उम्र में सुखविंदर के पास पहुंचे थे और तब से युवराज को निखारने में सुखविंदर का बड़ा हाथ है।

सुखविंदर ने कहा कि मेरे लिए वो हमेशा लिजेंड रहेगा। उसके लिए यह फैसला लेने का सही वक्त था। मेरी नजर में उसने क्रिकेट इतिहास का सबसे बड़ा कमबैक किया था, इसलिए वो लिजेंड है।

सुखविंदर ने भारत के लिए 400 से अधिक मैच खेलने वाले युवराज के लिए कहा कि आप लोगों ने टीवी पर उसका एग्रेशन, उसका जुनून देखा है। असल जिंदगी में वह बिल्कुल ऐसा नहीं है। वह जिंदादिल है।

उन्होंने बताया कि वह जो कुछ करता है, देश के लिए करता है। अपने लिए उसने एक भी पारी नहीं खेली। मैंने कई बार टोका कि अपना विकेट क्यों फेंक दिया तो कहता था- सर वहां टीम को मेरी जरूरत थी। सो, मैंने देश के लिए यह फैसला लिया।

बावा के मुताबिक जो इंसान गलत देखकर उसके खिलाफ आवाज उठाना जानता हो, उसके अंदर एग्रेशन तो होना ही चाहिए और युवराज भी ऐसा ही है। बकौल बावा, वह गलत होता देख आंखें बंद नहीं कर सकता। वह उसके खिलाफ आवाज उठाता है और हालात सुधारने की कोशिश करता है। इसके लिए आक्रामक होना जरूरी है। अगर ऐसा न हो तो इंसान लाश हो जाता है।

 

हमारा Youtube  चैनल Subscribe करें– http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost 

हमें ट्विटर पर फॉलो करेंhttps://twitter.com/uttarakhandpost         

हमारा फेसबुक पेज लाइक करें– https://www.facebook.com/Uttrakhandpost