भाजपा के बाद अब कांग्रेस में भी जारी होगी परिवारमय सूची !

1366

हरीश रावत ने भले ही भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवारों की पहली सूची को परिवारमय करार देते हुए  तंज कसा हो लेकिन स्थिति कांग्रेस में भी कुछ ऐसी ही है। यहां पर तो मुख्यमंत्री हरीश रावत के परिवार से उनके पुत्र और पुत्री टिकट के दावेदारों में से हैं।

यहां पर गौर करने वाली बात ये है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय एक परिवार से एक सदस्य को टिकट की पैरवी कर चुके हैं तो मुख्यमंत्री हरीश रावत का कहना है कि जीतने की संभावना वाले उम्मीदवार को टिकट जरुर मिलेगा।

RAWAT PC

मुख्यमंत्री हरीश रावत खुद विधानसभा चुनाव लड़ने की बात कह चुके हैं तो उनके परिवार से एक टिकट तो पक्का है ही, लेकिन साथ ही उनकी बेटी अनुपमा रावत हरिद्वार विधानसभा सीट पर सक्रिय है और वहां से टिकट की दावेदारी कर रही है तो वहीं हरीश रावत के पुत्र आनंद रावत भी कुमाऊं की खटीमा विधानसभा से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर कर चुके हैं। इसके साथ ही मुख्यमंत्री के प्रधान सलाहकार और उनके रिश्तेदार रणजीत सिंह रावत भी रामनगर विधानसभा से चुनाव लड़ने के इच्छुक हैं।

IMG_20170116_155841

वहीं कांग्रेस की ही एक और दिग्गज नेता और कैबिनेट मंत्री इंदिरा हृद्य़ेश की भी कमोबेश यही इच्छा है। वे भी अपने राजनीति के सूर्यास्त से पहले अपने बेटे सुमित हृद्येश की जड़ों को जमाना चाहती हैं। वे खुद अपनी पुरानी सीट हल्द्वानी विधानसभा से टिकट की दावेदार हैं तो अपने बेटे के लिए भी किसी आस-पास की विधानसभा सीट से टिकट चाहती हैं।

इसके साथ ही कुछ और कांग्रेसी नेता हैं जो अपने परिवार के किसी ना किसी सदस्य को टिकट दिलाने का चाहत समय समय पर जाहिर कर चुके हैं।

comgress

ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या शीघ्र जारी होने वाली कांग्रेस की सूची भी भाजपा की तरह की परिवारमय नजर आएगी या फिर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय की एक परिवार से एक सदस्य को टिकट देने की थ्योरी इस सूची में नजर आएगी।

बहरहाल कांग्रेस की सूची जारी होने में ज्यादा वक्त नहीं है ऐसे में इस पर से भी जल्द पर्दा हट ही जाएगी कि कांग्रेस में टिकटों के बंटवारे में किसका दबदबा रहा।