CM त्रिवेंद्र की ये बात मानने को तैयार नहीं है हरीश रावत, दी ये सलाह

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) टीएचडीसी के निजिकरण होने की खबरों पर भले ही मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने स्थिति स्पष्ट कर दी हो कि इसका निजिकरण नहीं हो रहा लेकिन पूर्व सीएम हरीश रावत इस बात को मानने को तैयार नहीं है।

हरीश रावत ने इस मुद्दे पर फिर एक बार कहा कि हमारे माननीय मुख्यमंत्री जी ने बहुत भोलेपन से कह दिया है कि, टी.एच.डी.सी. को बेचा नहीं जा रहा है, उसका विलय किया जा रहा है। जब टी.एच.डी.सी. जो टिहरी झण्डे को देश व दुनियां भर में ऊंचा उठा रही है। जगह-जगह टी.एच.डी.सी. कॉरपोरेशन के नाम से प्रोजेक्ट बन रहे हैं, उसका विलय हो जायेगा, अस्तित्व समाप्त हो जायेगा।

हरीश रावत ने आगे कहा कि मुख्यमंत्री जी ‘‘छन आंखै भ्योव पड़न’’, एक उत्तराखण्डी कहावत है। समय है, विधानसभा से प्रस्ताव पारित कर टी.एच.डी.सी. का अस्तित्व यथावत बनाये रखने का केन्द्र सरकार से आग्रह करें।

पूर्म मुख्यमंत्र ने कहा कि हमें शौक नहीं है, हमारे पास संसाधन भी नहीं है, मगर टिहरी की आवाज व टिहरी के लोगों को का बलिदान, कैसे विलुप्त होने दिया जायेगा? जरा विचार करिये। बेचना तो महापाप है, मगर विलय भी कोई छोटा महापाप नहीं है, उत्तराखण्ड व टिहरी के दीर्घकालिक हितों पर इससे चोट पहुंचेगी।

Youtube – http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost 

Twitter– https://twitter.com/uttarakhandpost                 

Facebook Page– https://www.facebook.com/Uttrakhandpost