हरीश रावत ने इस मामले में खुद को बताया उत्तराखंड का सबसे बेहतर मुख्यमंत्री

305

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री व नैनीताल संसदीय सीट से कांग्रेस उम्मीदवार हरीश रावत का दावा है कि राज्य के अभी तक जितने भी मुख्यमंत्री हुए, उनमें बाजार से सबसे कम कर्ज मेरी सरकार ने उठाया। उसके बावजूद भी BJP Uttarakhand के लोग मुझे कोसते थे कि मैंने #उत्तराखंड को कर्ज में डूबा दिया है।

हरीश रावत ने आगे कहा कि Trivendra Singh Rawat सरकार एक साल में ही बाजार से उतना कर्ज उठा ले रही है जितना मैंने 3 साल में उठाया था मगर अब भाजपा के दोस्तों को ये कर्ज चुभ नहीं रहा है बल्कि पुष्प वर्षा लग रही है। सारे राज्य के गाड़-गधेरे, नदियां खोद डाली हैं खनन के नाम पर, गांव-गांव में शराब के ठेके खोल दिये हैं, उसके बाद भी राज्य की वित्तीय स्थिति नहीं सुधर रही है, अजीब सा तर्क है।

डबल इंजन की सरकार है फिर भी राज्य का खजाना खाली है, डेवलपमेंट ठप पड़ा हुआ है, कर्ज़ उठाकर ‘ऋणं कृत्वा घृतं पीवेत’ के सिद्धांत पर सरकार काम कर रही है, किस ओर उत्तराखंड को ले जा रहे हैं।

रावत ने आगे कहा कि तकलीफ की बात ये है कि मेरे कार्यकाल में राज्य का ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट बढ़ रहा था, राज्य की अर्थव्यवस्था का आकार बढ़ रहा था, जीडीपी दर तेजी से आगे बढ़ रही थी इसलिए जीडीपी के सापेक्ष कर्ज अनुमन्य नहीं बल्कि राज्य के विकास को गति देने के लिए आवश्यक भी था और आज जीडीपी विकास दर ठहर गई है, राज्य में सकल पूंजी निवेश घट गया है और इसके बावजूद भी सरकार कर्ज पर कर्ज उठा रही है। कर्ज़ का औचित्य होना चाहिए और त्रिवेंद्र सरकार औचित्यहीन कर्ज ले रही है। हमने औचित्य संगत कर्ज लिया, राज्य के विकास को गति देने के लिए कर्ज उठाया।

हरीश रावत बोले- मेरी वजह से महानायक बने त्रिवेंद्र, कम से कम धन्यवाद तो कहें

हमारा Youtube  चैनल Subscribe करेंhttp://www.youtub.com/c/UttarakhandPost 

हमें ट्विटर पर फॉलो करेंhttps://twitter.com/uttarakhandpost

हमारा फेसबुक पेज लाइक करें – https://www.facebook.com/Uttrakhandpost/