हल्द्वानी के इस स्कूल में छात्रा की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत से मची सनसनी, सहपाठियों ने लगाया ये आरोप

हल्द्वानी (उत्तराखंड पोस्ट) हल्द्वानी से एक सनसनीखेज खबर सामने आयी है जिसके मुताबिक कालाढूंगी रोड स्थित जीजीआईसी में 10वीं की छात्रा की संदिग्ध परिस्थितियों की मौत हो गई। उसके मुंह से झाग निकल रहा था। उसके जहर खाकर जान देने की आशंका जताई जा रही है। कहा जा रहा है कि कि दो शिक्षिकाओं ने शनिवार को उसकी पिटाई कर दी थी, इस वजह से वह टेंशन में थी।

जानकारी के मुताबिक अल्मोड़ा जिले के कोसी कटारमल निवासी नंदन सिंह बिष्ट की 16 साल की बेटी ऋतु जीजीआईसी में हाईस्कूल की छात्रा थी। वह गैस गोदाम रोड हरिपुर नायक स्थित अपनी बुआ के घर में रहती थी। मंगलवार की सुबह आठ बजे वह स्कूल पहुंची और पेट दर्द की बात कहकर टेबल पर सो गई। छात्राओं और शिक्षिकाओं ने देखा कि उसके मुंह से झाग निकल रहा है और उल्टी भी हो रही हैं।

इसके बाद शिक्षिकाएं तुरंत साइकिल पार्ट्स की दुकान करने वाले उसके परिचित त्रिलोक भट्ट के पास गई और उसे इस बारे में बताया। इसी बीच प्रधानाचार्या उसे बेस अस्पताल ले गईं, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

ऋतु की मां नहीं है। बड़ा भाई विक्की अपने पिता के साथ गांव में रहता है। उसकी मौत के बाद परिवार में कोहराम मच गया है। उसके परिजनों का कहना है कि ऋतु को पहले से कोई दिक्कत नही थी। वह सही सलामत परीक्षा देने स्कूल में आई। लेकिन तबियत कैसे बिगड़ी कुछ पता नहीं चला। सूचना मिलते ही उसे इलाज़ के लिए अस्पताल लाया गया लेकिन उसे नहीं बचाया जा सका। पुलिस के मुताबिक मृतक छात्रा का पोस्मार्टम करवाया जा रहा है।

वहीं ऋतु की मौत के बाद जीजीआईसी की कई छात्राएं अस्पताल पहुंची और उन्होनें शिक्षिकाओं के प्रति गुस्सा जाहिर किया। छात्राओं का आरोप था कि रितु शनिवार को खेलने के लिए जा रही थी। इसी बीच दो शिक्षिकाओं ने उसे डांट दिया और पढ़ाई करने की सलाह दी थी। जीजीआईसी की प्रधानाचार्या देवकी आर्या का कहना है कि रितु की मौत के कारणों का पता नहीं चल सका है। आजकल शहर में डेंगू की बीमारी में भी उल्टी हो रही है।

Youtube – http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost 

Twitter– https://twitter.com/uttarakhandpost                 

Facebook Page– https://www.facebook.com/Uttrakhandpost

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here