सर्दी-जुकाम को कोरोना समझकर कर ली आत्महत्या, डॉक्टरों ने बताया ये थी बीमारी

हैदराबाद (उत्तराखंड पोस्ट) चीन के वुहान से दुनिया भर में फैले करॉना वायरस से पूरी दुनिया में खौफ का माहौल है। भारत में अब तक सिर्फ तीन मामले देखने को मिले हा। मंगलवार को आंध्र प्रदेश में 50 वर्षीय एक शख्स ने करॉना वायरस से संक्रमित होने का शक होने पर फांसी लगाकर जान दे
 
सर्दी-जुकाम को कोरोना समझकर कर ली आत्महत्या, डॉक्टरों ने बताया ये थी बीमारी

हैदराबाद (उत्तराखंड पोस्ट) चीन के वुहान से दुनिया भर में फैले करॉना वायरस से पूरी दुनिया में खौफ का माहौल है। भारत में अब तक सिर्फ तीन मामले देखने को मिले हा। मंगलवार को आंध्र प्रदेश में 50 वर्षीय एक शख्स ने करॉना वायरस से संक्रमित होने का शक होने पर फांसी लगाकर जान दे दी।

जानकारी के मुताबिक मामला चित्तूर जिले के थोट्टमबेडू गांव का है। यहां के बालाकृष्णैया को लगा कि उन्हें कोरोनावायरस का संक्रमण हो गया है. अब इसका कोई इलाज तो है नहीं। उनकी वजह से और लोग बीमार न हो इसलिए उन्होंने खुदकुशी कर ली।

54 वर्षीय बालाकृष्णैया शनिवार को रुइया सरकारी अस्पताल में गए थे जांच के लिए। वहां पता चला कि उन्हें यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन है। लेकिन डॉक्टरों से बातचीत के दौरान कोई कन्फ्यूजन हुआ जिसकी वजह से उन्हें लगा कि वे कोरोनावायरस से संक्रमित हैं।

सर्दी-जुकाम को कोरोना समझकर कर ली आत्महत्या, डॉक्टरों ने बताया ये थी बीमारी

कृष्णा के परिवार के लोगों ने बताया कि वायरल फीवर होने के दौरान उन्होंने इंटरनेट पर करॉना वायरस से संबंधित विडियो देखा था। इसके बाद से उन्हें ऐसा लगने लगा था कि वह करॉना से संक्रमित हैं। मंगलवार को कृष्णा ने अपने परिवार के सदस्यों को घर में बंद कर दिया और अपनी मां की कब्र पर चले गए।

बालाकृष्णैया के बेटे ने मीडिया वालों को बताया कि मैंने पिता जी को समझाने की कोशिश की थी कि उन्हें कोरोनावायरस का संक्रमण नहीं है। लेकिन वे काफी शांत थे। वे ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं थे। इसलिए डॉक्टर की बात भी नहीं समझ पाए.।उन्हें लगा कि उन्हे कोरोनावायरस है। शनिवार को अस्पताल से आने के बाद बालाकृष्णैया अजीबोगरीब तरीके से व्यवहार कर रे थे। मंगलवार की सुबह उन्होंने खुदकुशी कर ली।

बताया गया कि तिरुपति के डॉक्टरों ने जब मृतक कृष्णा की जांच की तो उन्हें करॉना के कोई लक्षण नहीं मिले। डॉक्टरों ने बताया कि वह सामान्य वायरल फीवर से पीड़ित थे।

Youtube  http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost

Twitter– https://twitter.com/uttarakhandpost                                

Facebook Page– https://www.facebook.com/Uttrakhandpost 

From around the web