तस्वीरें | तन समर्पित, मन समर्पित, और ये जीवन समर्पित, हम हैं हिमवीर

1177

देहरादून [उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो] बर्फ से ढके पहाड़, चारों ओर दूर – दूर तक फैली बर्फ की चादर देखने में भले ही अच्छी लगती हो लेकिन यहां पर जीवन आसान नहीं है। हां, कुछ दिन छुट्टियां मनाने की बात हो तो ये किसी रोमांच की तरह हो सकता है लेकिन सोचिए कठिन परिस्थियों में माइनस तापमान में अगर यहां पर साल पर रहना रहना पड़े वो भी दुश्मन से सीमाओं की रक्षा करते हुए तो जीवन कैसा होता होगा।

देश की सीमाओं की रक्षा करते हुए हमारे जांबाज ‘हिमवीर’ ये काम करते हैं, वो भी पूरी मुस्तैदी के साथ। आईए आज हम आपको ऐसी ही कुछ तस्वीरें दिखाते हैं, जिन्हें देखकर आप कम से कम अंदाजा तो लगा ही सकते हैं कि इन खूबसूरत दिखने वाले नजारों में जिंदगी की राह कितनी मुश्किल भरी है। आईए सलाम करें इन हिमवीरों के जज्बे को और इनकी तस्वीरों को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर करके पहुंचाएं ताकि आम लोग ये समझ सकें कि अगर वे चैन की नींद सो पा रहे हैं तो उसके पीछे कोई विपरित परिस्थितियों में अपना जीवन लगा रहा है।

 

भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस (Indo-Tibetan Border Police) भारतीय अर्ध-सैनिक बल है, जिसकी स्थापना भारत-तिब्बत सीमा की चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र से रक्षा हेतु की गई थी। ये बल इस सीमा पर काराकोरम दर्रा से लिपुलेख दर्रा और भारत-नेपाल-चीन त्रिसंगम तक 2115 किमी की लंबाई पर फैली सीमा की रक्षा करता है।

(नोट- सभी तस्वीरें आईटीबीपी के ट्विटर अकाउंट से साभार)

(उत्तराखंड पोस्ट के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं, आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)