अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस |” बेटी बचाओ, उत्तराखंड आगे बढ़ाओ”

491

Photo 02, dt.07 March, 2016अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्व संध्या पर देहरादून में उत्तराखण्ड महिला आयोग व महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग के संयुक्त तत्वाधान में ’’पेंटिंग कार्यशाला’’ का आयोजन किया गया। कार्यशाला में 13 चित्रकारों, विभिन्न ब्लॉकों एवं शहर की मलिन बस्तियों से आयी 11 से 18 वर्ष तक की 50 किशोरियों ने भाग लिया।

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर मंगलवार को आयोजित होने वाले कार्यक्रम में सभी प्रतिभागियों द्वारा बनाई गई पेंटिंग की प्रदर्शनी लगाई जायेगी। इसके साथ ही विभिन्न वर्ग के लोगों को मुख्यमंत्री हरीश रावत सम्मानित भी करेंगे। साथ ही तीलू रौतेली पुरस्कार, आंगनबाड़ी कार्यकत्री पुरस्कार एवं विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धि हासिल करने वाली महिलाओं को भी विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित किया जायेगा। मुख्यमंत्री आईएएस, आईपीएस एवं आईएफएस अधिकारियों को भी सम्मानित करेंगे।

Photo 03, dt.07 March, 2016पेंटिंग कार्यशाला का शुभारम्भ राज्य महिला आयोग की अध्यक्षा सरोजनी कैन्तुरा एवं प्रमुख सचिव राधा रतूड़ी ने संयुक्त रूप से किया। राज्य महिला आयोग की अध्यक्षा ने बताया कि इस कार्यशाला से एक बेहतर व अच्छे समाज के निर्माण का संदेश जायेगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के संदेश का उद्देश्य ही महिलाओं की स्थिति में सुधार लाना है। उन्होंने कहा कि यदि किसी गांव में कोई महिला पीडि़त है तो वह वहां के सीडीपीओ व डीपीओ को सूचित करें, उनकी समस्यों का समाधान मौके पर ही किया जायेगा।  उन्होंने कहा कि आने वाले समय में महिलाओं को विकास से कैसे जोड़ा जाए इसके लिए प्रत्येक जनपद में कैम्प लगाए जायेंगे।

Photo 04, dt.07 March, 2016वहीं प्रमुख सचिव राधा रतूड़ी ने बताया कि इस कार्यशाला का उद्देश्य सामाजिक मुद्दों जिनमें महिलाओं व बालिकाओं में असामानता होती है, उन मुद्दों में महिलाओं व बालिकाओं को जागरूक एवं संवेदनशील बनाना है। बेटियों को बचाने का संदेश इस कार्यशाला के माध्यम से दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि महिलाएं राज्य की आर्थिकी की रीढ़ है। ग्रामीण व पर्वतीय क्षेत्रों की अर्थवयवस्था महिलाओं पर निर्भर है। महिलाओं को सम्मान देना उनकी मेहनत को मान्यता देना यह एक सराहनीय कदम है। Photo 07, dt.07 March, 2016उन्होंने मीडिया से अनुरोध किया कि महिला कल्याण एवं महिला सशक्तिकरण के लिए आयोजित किए जा रहे कार्यक्रमों का व्यापक स्तर पर प्रचार प्रसार करें। साथ ही सामाजिक मुद्दों, महिलाओं के साथ हो रहे भेदभाव व अन्याय को दूर करने एवं एक बेहतर समाज बनाने के लिए मीडिया को अहम भूमिका निभानी होगी।

पेंटिंग कार्यशाला में भाग ले रही किशोरियों ने बताया कि उनके द्वारा की गई पेंटिंग के माध्यम से उन्होंने महिला सशक्तिकरण को दर्शाया है। उन्होंने बताया कि कैसे महिलाओं को समाज में आगे आने का मौका मिले व कैसे महिलाओं को जागरूक बनाया जाए यह उन्होंने पेंटिंग के माध्यम से बताने का प्रयास किया है।