धर्म संसद ने पारित किया पाकिस्तान को शत्रु देश घोषित करने का प्रस्ताव

399

Dharma Sansadहरिद्वार में धर्म संसद में पाकिस्तान को शत्रु देश व आतंकवादी देश घोषित करने का प्रस्ताव पारित किया गया। हिंदू आतंकवाद के नाम पर जेलों में बंद साध्वी प्रज्ञा, स्वामी असीमानंद, दारा, धनंजय देसाई, कमलेश तिवारी आदि को निर्दोष बताते हुए उनकी रिहाई के लिए हिंदू रक्षा कोष बनाने पर भी धर्म संसद ने मुहर लगाई। इसके साथ ही धर्म संसद में धर्म ससंद में संस्कृत भाषा को महत्व देने और विदेश में रहने वाले हिंदुओं को संकट के समय विशेष सहायता के लिए अलग मंत्रालय बनाने की भी मांग की गई।  देश के विश्वविद्यालयों में भी धर्म संसद आयोजित कर युवा पीढ़ी को संस्कारित करने का निर्णय लिया गया। साथ ही इस्लामिक धर्म गुरुओं को कुरान और इस्लामिक इतिहास के संदर्भ में इस्लामिक जिहाद एवं जिहादी आतंकवाद पर खुली बहस का आमंत्रण दिया गया।

धर्म संसद में स्वामी अच्युतानंद तीर्थ ने कहा कि सीमा पर सैनिकों का लहू बहाया जा रहा है। पाकिस्तान की ओर से हमारे सैनिकों की हत्या की जा रही है और हम मैत्री का राग अलापते जा रहे हैं। उन्होंने पाकिस्तान को शत्रु देश और आतंकवादी देश घोषित कर उससे हर तरह का व्यापारिक, सांस्कृतिक और कूटनीतिक संबंध समाप्त कर लिया जाए। इस प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पारित किया गया। इसके अलावा सैनिकों के लिए रक्षा नीति बनाए जाने और शिक्षा को संस्कारपरक बनाने की दिशा में काम करने की जरूरत बताई गई।