केदारनाथ धाम में पॉलीथीन पर प्रतिबंध, कूड़ा फेंकने पर लगेगा जुर्माना

उत्तराखंड के चारधामों में से केदारनाथ धाम में पॉलीथीन के इस्तेमाल पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है। साथ ही धाम में कूड़ा फैलाने वालों से जुर्माना भी वसूला जाएगा। अब ख़बरें एक क्लिक पर इस लिंक पर क्लिक कर Download करें Mobile App – उत्तराखंड पोस्ट

दरअसल देश भर में स्वच्छता अभियान के बीच प्रशासन ने केदारनाथ धाम को भी स्वच्छ रखने के लिए अहम कदम उठाए हैं। इसके तहत केदारनाथ धाम में पॉलीथीन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। हालांकि श्रद्धालु केदारनाथ धाम पानी की बोतलें और चिप्स इत्यादि के पैकेट अपने साथ तो ले जाएंगे, लेकिन खाली बोतलें और पैकेट कूड़ेदान में ही डालने होंगे। इसके लिए दो-दो सौ मीटर के फासले पर कूड़ेदान लगाए जा रहे हैं। इसकी बाकायदा निगरानी भी की जाएगी। उल्लंघन करने पर यात्रियों से पांच सौ रुपये जुर्माना वसूला जाएगा। प्रशासन बाहरी राज्यों से आने वाले यात्रियों को भी धाम में बनाए रखने के लिए जागरूक करेगा।

गौरतलब है कि केदारनाथ आने वाले श्रद्धालु धाम समेत 16 किमी लंबे पैदल मार्ग पर बड़ी संख्या में खाली बोतलें, नमकीन-बिस्कुट के खाली पैकेट और प्लास्टिक व पॉलीथिन की सामाग्री जहां-तहां फेंक देते हैं। इससे पैदल मार्ग समेत केदारपुरी में गंदगी का अंबार लग जाता है।

जिलाधिकारी रंजना ने बताया कि यात्रियों को जागरूक करने के लिए जिला पंचायत, पुलिस और प्रशासन की टीमें प्रीपेड काउंटर, सोनप्रयाग, गौरीकुंड, जंगलचट्टी, भीमबली, लिनचोली, बड़ी लिनचोली व केदारनाथ समेत मुख्य कस्बों में तैनात की जाएंगी। ये टीमें यात्रियों को नए नियमों की जानकारी देंगी। इसके अलावा पैदल मार्ग पर घोड़ा-खच्चरों की लीद को तत्काल साफ किया जाएगा। ताकि पैदल मार्ग पर कोई गंदगी न रहे। गौरीकुंड में सफाई व्यवस्था का जिम्मा जिला पंचायत के पास रहेगा और केदारपुरी में यह कार्य केदारनाथ नगर पंचायत देखेगी। उन्होंने बताया कि कूड़े को एक स्थान पर एकत्रित कर रिसाइकिलिंग के लिए गौरीकुंड लाया जाएगा।