कोरोना | रेलवे ने ट्रेन के कोचों को ही बना दिया आइसोलेशन केंद्र, जानिए खासियत

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 885 हो गई है, इनमें से 74 मरीज ठीक भी हुए हैं जबकि अब तक 17 लोगों की मौत इस संक्रमण की वजह से हुई है। अभी 792 एक्टिव मरीज हैं, जिनका इलाज देश के अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है।

इस बीच भारतीय रेल ने एक बड़ा फैसला लिया है जिसके मुताबिक भारतीय रेल ने अपने ट्रेन कोच को आइसोलेशन केंद्र बनाने का निर्णय लिया है। भारतीय रेलवे ने अपने ट्रेन कोचों को स्‍वयं ही कोरोना मरीजों के उपचार के लिए आइसोलेशन केंद्र में तब्‍दील कर दिया है। यह फैसला संक्रमण से ग्रसि‍त मरीजों की संख्‍या बढ़ने की आशंका को देखते हुए लिया गया है।

यह है कोच की खासियात- जानकारी के मुताबिक ट्रेन के इन कोचों में डॉक्‍टर्स और नर्स के लिए केबिन, मरीजों के लिए केबिन और चिकित्‍सा उपकरण व दवाओं को रखने के लिए अलग-अलग केबिन बनाए गए हैं। कोच में हर केबिन को कवर करने के लिए विशेष प्रकार के पर्दे लगाए गए हैं। इन ट्रेन कोचों को विभिन्‍न रेलवे स्‍टेशन पर खड़ा किया जाएगा। इसके अलावा मरीज़ के लिए कैबिन तैयार करने के लिए बीच के बर्थ को एक तरफ से हटाया गया है,मरीज़ के बर्थ के सामने के सभी 3 बर्थों को हटाया गया है। बर्थ पर चढ़ने के लिए लगाई गईं सभी सीढ़ियों को हटाया गया है।आइसोलेशन कोच तैयार करने के लिए बाथरूम, गलियारे और दूसरी जगहों पर भी फेरबदल किया गया है।

Youtube – http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost

Twitter– https://twitter.com/uttarakhandpost                                

Facebook Page– https://www.facebook.com/Uttrakhandpost