पढ़ें- अब कैसे सुरक्षित होगी ऋषिकेश में राफ्टिंग व कैंपिंग ?

12-34-31-imagesगंगा व उसकी सहायक नदियों के किनारे कैंपिंग के लिए अब राफ्टिंग कंपनियों को कई पाबंदियों का पालन करना होगा, तो सुरक्षा मानकों की अनदेखी भी उनको भारी पड़ सकती है।

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेश के अनुपालन में बनाया गया कैंपिंग का नया मैनेजमेंट प्लान राज्य सरकार द्वारा एनजीटी में दाखिल किया जा चुका है। गौरतलब है कि भारतीय वन्यजीव संस्थान द्वारा गंगा व सहायक नदियों के आसपास पर्यावरणीय प्रभाव आकलन के बाद मौजूदा 56 में से सिर्फ 33 स्थलों को ही कैंपिंग गतिविधि के लिए उपयुक्त बताया गया है। नए प्लान के तहत कैंपिंग क्षेत्र में किसी भी प्रकार का अग्नेयास्त्र या अन्य हथियार ले जाना वर्जित होगा, तो जेनरेटर, रेडियो, डीजी व अन्य संगीत बजाने पर भी पाबंदी होगी। रात्रि नौ बजे के बाद बिजली का इस्तेमाल भी नहीं किया जा सकेगा।

ईंधन के लिए लकड़ी के इस्तेमाल और कैंप फायर पूरी तरह वर्जित होगा। उजाले के लिए सिर्फ सौर ऊर्जा के इस्तेमाल को ही अनुमति मिलेगी। प्लास्टिक पूरी तरह से प्रतिबंधित होगा, तो कूड़े-कचरे के लिए डंपिंग व नियमित निस्तारण की भी ठोस व्यवस्था करनी होगी। कैंप संचालकों को कैंप एरिया में बायोडाईजेस्टर शौचालय बनाने होंगे, जिसमें सीवरेज को अन्यत्र निस्तारित करने के लिए ट्रांसपोर्टेशन की भी व्यवस्था करनी होगी। वनक्षेत्रों में कैंपिंग की अनुमति प्रभागीय वनाधिकारी और सिविल, निजी व राजस्व भूमि पर इसके लिए जिलाधिकारी अनुमति देंगे।

इसके अलावा अब उत्तराखंड पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से भी एयर एंड वाटर एक्ट के तहत अनुमति लेनी जरूरी होगी। गंगा व सहायक नदियों में राफ्टिंग की अनुमति सूर्योदय व सूर्यास्त के बीच के समय के लिए ही होगी। हालांकि, ग्रीन ट्रिब्यूनल से कैंपिंग पर लगाई गई रोक हटाए जोन के बाद ही कैंपिंग गतिविधियों के लिए यह नया मैनेजमेंट प्लान लागू किया जाएगा।
कैंपिंग के नए मैनेजमेंट प्लान के तहत निर्धारित मानकों का उल्लंघन करने वाली कंपनियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई के भी प्रावधान किए गए हैं। पहली बार मानकों के उल्लंघन पर उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया जाएगा। दूसरी बार उल्लंघन पर कैंप आवंटन को निलंबित किया जाएगा। साथ ही, तीसरी बाद मानकों का उल्लंघन करने पर कैंप का आवंटन निरस्त करते हुए संबंधित कंपनी या कैंप संचालक को काली सूची में डाल दिया जाएगा।