चारों धाम में प्रसाद के रूप में शामिल होंगे चौलाई और झंगोरा के उत्पाद

689

पर्यटन एवं सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने पर्यटन विभाग की योजनाओं के समीक्षा के दौरान अधिकारियों को राज्य के चार धामों में प्रसाद के रूप में चौलाई और झंगोरा के उत्पादों को शामिल करने के लिए कार्ययोजना तैयारी करने के निर्देश दिए।

उन्होंने चारधाम की यात्रा और अधिक सुगम बनाने के लिए अवस्थापना सुविधाओं को विस्तार देने पर जोर दिया। उन्होंने बदरीनाथ में प्रस्तावित आस्था पथ पर अक्षम लोगों के लिए व्हीलचेयर का प्रस्ताव भी योजना में शामिल करने को कहा।

महाराज ने कहा कि चारों धाम से संबंधित तमाम जानकारी का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार किया जाए। इस दौरान उन्होंने उत्तराखंड की प्राकृतिक उपज और स्थानीय हस्तशिल्प उत्पादों को मजबूत कर आर्थिकी का मुख्य साधन बनाए जाने के लिए कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

केदारनाथ धाम के लिए बस स्टैंड, गौरीकुंड को नाकाफी बताया और वहां पर पार्किंग स्थल विकसित करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही ऐसी व्यवस्था करने को कहा, जिससे यात्री वहां पर वाहन बुला सकें। अभी पार्किंग नहीं होने कारण यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

Chardham yatra

पर्यटन मंत्री ने ढाबों की सूची फोन नंबर के साथ तैयार करने, ढाबों की ग्रेडिंग करने और अच्छे ढाबों को प्रोत्साहित करने के निर्देश भी दिए। बैठक में पर्यटन मंत्री ने साहसिक पर्यटन सर्किट के अहम स्थलों को चिह्नित करने को कहा।

उन्होंने केंद्र को भेजे जाने वाली हेरिटेज सर्किट विकास योजना में महाभारत से जुड़े स्थलों, राजसूय यज्ञ, वनवास के दौरान अस्त्र-शस्त्र छिपाए जाने वाले स्थल, लाक्षागृह आदि स्थलों को पर्यटन के लिहाज से विकसित किए जाने का प्रस्ताव शामिल करने के निर्देश दिए।