ये मशीन बता देगी आपने विधानसभा चुनाव में किसे वोट दिया

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में राज्य के करीब एक हजार बूथों पर इस बार मतदाता जान पाएंगे कि उन्होंने जिस प्रत्याशी को मत दिया, उसे मिला कि नहीं।

निर्वाचन आयोग ने फर्जी मतदान की आशंकाओं और मशीन पर डाले गए वोट को लेकर मतदाताओं के संशय को देखते हुए वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल(वीवीपीएटी) मशीनें भी मतदान में शामिल की हैं।

13-30-45-07_01_2017-07vvpatmachindd1

वीवीपीएटी एक ऐसी मशीन है, जिसे ईवीएम के साथ जोड़ा जाता है। इस मशीन के जरिये मतदाता मतदान करने के बाद एटीएम मशीन से मिलने वाली रसीद की तरह एक पेपर पर प्रिंट रसीद प्राप्त कर सकता है।

इस रसीद पर मतदान की जानकारी दर्ज होगी। मतदाता संतुष्ट हो सकता है कि उसने जिस प्रत्याशी को मत दिया था, उसी को मिला है कि नहीं।

राज्य में विधान सभा चुनाव-2017 के लिए कुल 10854 बूथ बनाए गए हैं। इन बूथों पर मतदान के लिए राज्य के पास कुल 22020 इलैक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) और 19953 कंट्रोल यूनिट हैं।

इसके साथ ही राज्य को इस चुनाव में पहली बार वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल(वीवीपीएटी) मशीनें भी मुहैया कराई गई हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के अनुसार राज्य को 956 वीवीपीएटी मशीनें मिली हैं।

राज्य की मुख्य निर्वाचन अधिकारी राधा रतूड़ी ने जानकारी दी कि सभी जिलों को ईवीएम, कंट्रोल यूनिट और वीवीपीएटी भेज दी गई हैं। उन्होंने बताया कि करीब 2000 ईवीएम और 2000 कंट्रोल यूनिटें खराब थीं।

इसके बावजूद बूथों की संख्या के सापेक्ष करीब 75 फीसद अधिक मशीनें उपलब्ध हैं ताकि किसी भी बूथ पर मशीन खराब होने की स्थिति में तत्काल बैकअप दिया जा सके।

सभी मशीनों की जांच और रखरखाव कराने के बाद इन्हें जिलों को भेजा गया है। इसके बावजूद इस बात का ध्यान रखा जा रहा है कि किसी भी बूथ पर ईवीएम में समस्या के कारण मतदान में विलंब न हो।