उत्तराखंड | सरकारी अस्पतालों में महंगा हुआ इलाज, इन लोगों को नहीं देने होंगे पैसे

313

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड के सरकारी अस्पतालों में इलाज कराना अब महंगा हो गया है। सरकार ने नौ साल के बाद इलाज कराने के लिए यूजर चार्ज की दरों में बढ़ोतरी कर दी है। बुधवार को त्रिवेंद्र सिंह रावत कैबिनेट की बैठक में ये फैसला लिया गया। वहीं सरकारी अस्पतालों में सभी के लिए 56 प्रकार की पैथोलॉजी जांच निशुल्क ही रहेगी।

हालांकि जिन लोगों के पास अटल आयुष्मान योजना का कार्ड है उन्बें निशुल्क इलाज की सुविधा मिलेगी लेकिन जिनके पास अटल आयुष्मान योजना का कार्ड नहीं है, उनके लिए सरकारी अस्पतालों में इलाज महंगा हो गया है।

आपको बता दें कि सरकार ने वर्ष 2010 में सरकारी अस्पतालों में ओपीडी, आईपीडी पंजीकरण और भर्ती शुल्क, रेडियोलॉजी, पैथोलॉजी जांच समेत जनरल प्राइवेट और पेइंग वार्ड में बेड की दरें निर्धारित की थीं। इसके बाद अब नौ साल के बाद सरकार ने यूजर चार्ज में बढ़ोतरी की है। राज्य से बाहर के मरीजों से यूजर चार्ज वसूला जाएगा।

demo pic

कैबिनेट के फैसले के बाद नई दरों में एक्सरे की दरें पूर्व की भांति 160 रुपये ही रखी गई है। वहीं अल्ट्रासाउंड की दरों को 471 रुपये बढ़ा कर 700 रुपये किया गया है। जबकि ईसीजी की दर में महज एक रुपया बढ़ाकर इसे 120 रुपये कर दिया गया है। सरकार ने रेडियोलॉजिस्ट और पैथोलॉजी जांच के लिए वर्तमान में अलग-अलग श्रेणी के हिसाब से निर्धारित दरों को खत्म कर आयुष्मान कार्ड धारक और नॉन आयुष्मान कार्ड धारकों के हिसाब से कॉमन दरें तय की हैं।

कैबिनेट की बैठक में फैसला लिया गया है कि मरीजों को पांच किमी. तक एंबुलेंस का कोई किराया नहीं लिया जाएगा। पांच किमी. से अधिक दूरी होने पर 20 रुपये प्रति किमी. की दरें से किराया लिया जाएगा। जबकि वर्तमान में पांच किमी. की दूरी तक भी 10 रुपये प्रति किमी. की दर से किराया लिया जाता है।

कार्बेट पार्क में स्पेशल फोर्स में 85 पदों पर होगी भर्ती, जानिए त्रिवेंद्र कैबिनेट के अहम फैसले

Youtube Videos– http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost 

Follow Twitter Handle– https://twitter.com/uttarakhandpost                 

Like Facebook Page– https://www.facebook.com/Uttrakhandpost