शिक्षा के क्षेत्र में कई मामलों में केरल से आगे है उत्तराखंड : हरीश रावत

787

DSC_0135अल्मोड़ा में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कूर्मांचल एकेडमी के 25वें रजत जयन्ती के अवसर पर कूरजिमा (कूर्माचल करिश्मा) का शुभारम्भ किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्वतीय क्षेत्र में शिक्षा के क्षेत्र में नये कीर्तिमान स्थापित करने में कूर्माचल एकेडमी का योगदान सराहनीय एवं प्ररेणादायक है। उन्होंने कहा कि अल्मोड़ा का यह मुख्यालय हमेशा शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी रहा है।

केरल से आगे है उत्तराखंड | मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में अनेक उपब्धियां प्राप्त कर अब उत्तराखण्ड राज्य कई मामलों में केरल से अव्वल पंक्ति में शुमार हो चुका है। कूर्माचल एकेडमी की स्थापना के बाद यहा पर शिक्षा के क्षेत्र में गुणात्मक सुधार हुआ है, वही दूसरी ओर यहा से अध्ययन करने के बाद छात्र-छात्राओं ने आगे बढ़कर जनपद का ही नही अपितु राज्य का भी गौरव बढ़ाया है।

DSC_0191तकनीकी शिक्षा पर जोर | मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि जनपद अल्मोड़ा ने स्वतन्त्रता आन्दोलन से लेकर सांस्कृतिक गतिविधियों में अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हमारी प्राथमिकता है कि बुनियादी शिक्षा को मजबूत बनाने के साथ ही तकनीकी शिक्षा को भी प्राथमिकता दी जाय। उन्होंने कहा कि कूर्माचल एकेडमी की निदेशक मधु खाती ने जिस लगन से इस विद्यालय को आगे बढाने का काम किया यह महिला सशक्तिकरण के लिये भी प्रेरणा स्त्रोत है। उन्होंने विद्यालय के छात्र-छात्राओं के अनुशासन की प्रंशसा के साथ ही उनके द्वारा प्रस्तुत किये गये कार्यक्रमों को सराहा साथ ही इस अवसर पर अनेक अध्यापक/अध्यापिकाओं सहित उपस्थित अतिथियों का शॉल व स्मृति चिन्ह देकर सम्मान किया।

DSC_0192दो अध्यापकों से शुरु हुआ था सफर | कूर्माचल एकेडमी की निदेशक मधु खाती ने बताया कि 15 जुलाई 1991 में दो अध्यापक व 13 छात्र/छात्राओं को लेकर इस विद्यालय की स्थापना की गई थी। वर्तमान में इस विद्यालय में 1300 से भी अधिक छात्र-छात्रायें अध्ययनरत है साथ ही 90 शिक्षक/शिक्षिकायें व 34 अन्य कर्मचारी यह पर कार्यरत है। उन्होंने यह भी बताया कि गरीब बच्चों को भी अच्छी शिक्षा प्राप्त हो सके इस उद्देश्य से लोधिया नामक स्थान पर निरपेक्ष्य अभिलाषा विद्यालय की स्थापना की गई है।

इस कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष  गोविन्द सिंह कुंजवाल, विधायक मनोज तिवारी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती पार्वती महरा, नगरपालिका अध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी, जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष प्रशांत भैसोड़ा, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष मोहन सिंह महरा, पूर्व दर्जा राज्य मंत्री केवल सती,वर्तमान दर्जा राज्य मंत्री तारादत्त पाण्डे, जलागम प्रबन्धन के उपाध्यक्ष दिनेश कुंजवाल, अनुसूचित जाति-जनजाति आयोग के उपाध्यक्ष राजेन्द्र बाराकोटी, सफाई कर्मचारी आयोग के उपाध्यक्ष सिंकन्दर पंवार, जिलाधिकारी सविन बंसल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक केएस नगन्याल आदि उपस्थित थे।