सौगात | गोपेश्वर में 10 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण

597

गोपेश्वर (चमोली) [उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो] मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गुरूवार को पुलिस मैदान गोपेश्वर में 298.70 लाख रूपये की लागत से निर्मित होने वाली पीपलकोटी-सल्ला मोटर मार्ग से सल्ला-रैतोली मोटर मार्ग, 200.00 लाख रूपये की लागत की कल्प गंगा नदी पर 90 मीटर स्पान पैदल सेतु के निर्माण, 185.60 लाख रूपये की जिलासू-उत्तरौं मोटर मार्ग का पीसी द्वारा डामरीकरण कार्यो सहित कुल 684.30 लाख रूपये की विभिन्न विकास योजनाओं का शिलान्यास किया।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने 176.37 लाख रूपये की लागत से निर्मित बछेर-टेडा खनसाल मोटर मार्ग, 101.93 लाख रूपये की लागत से निर्मित उडामाण्डा-रौता मोटर मार्ग के कि.मी. 24 में 36 मीटर स्पान स्टील गर्डर सेतु, 229.03 लाख रूपये की लागत से निर्मित सेमी-पनाई उत्तरौं मोटर मार्ग के कि.मी. 3 एवं 15 में 36 मीटर स्पान स्टील सेतु सहित कुल 507.33 लाख रूपये की लागत की योजनाओं का लोकापर्ण भी किया। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने नगर पालिका द्वारा निर्मित गोपेश्वर बस स्टेशन के समीप पार्किंग, रैन बसेरा भवन एवं बहुउदेश्यीय पार्किंग, हड़को से वित्त पोषित रैन बसेरा भवन, नैग्वाड में टीचर्स काॅलोनी के समीप पार्किग, पठियालधार में पार्किग स्थल का लोकपर्ण तथा पीजी काॅलेज के समीप बहुउदेश्यीय भवन पर बरात घर एवं पार्किग स्थल का शिलान्यास भी किया।

पुलिस मैदान गोपेश्वर में आयोजित जनता मिलन कार्यक्रम संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार राज्य से संस्थागत भ्रष्टाचार को समाप्त करने हेतु प्रतिबद्ध है, जिसमें जन सहयोग भी अपेक्षित है। उन्होंने कहा कि राज्य में उच्च स्तर की संस्थाएं सीपीईटी, हाॅस्पिटेलिटि यूनिर्वसिटि तथा फैशन टैक्नोलाॅजी संस्थान की स्थापना की जा रही है। जिससे राज्य के युवाओं को उच्च टैक्निकल शिक्षा के साथ रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि इस वर्ष रिकार्ड तोड यात्री चारधामों की यात्रा पर पहुॅचे है। उन्होंने कहा कि कि आॅल वेदर रोड एवं रेल मार्ग के निर्माण कार्य पूरा होने पर चारधाम में आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में इजाफा होगा। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि भविष्य में आने वाले यात्रियों की सुविधाओं के लिए अभी से तैयारियों रखी जाए। उन्होंने कहा कि यात्रियों की सुविधा के लिए गौचर में हवाई पट्टी का विस्तारीकरण तथा चैखुटिया व अल्मोडा में हवाई पट्टी का निर्माण कार्य प्रस्तावित है।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि पहाड़ों से पलायन को रोकने के लिए विशेषज्ञों की समिति का गठन किया गया है। जिसमें विशेषज्ञ बारीकी से पलायन के कारणों का अध्ययन कर रहे है। समिति की रिपोर्ट के आधार पर पलायन को रोकने के लिए ठोस रणनीति के साथ कार्य किया जायेगा। उन्होंने कहा कि पिरूल जो वनाग्नि का प्रमुख कारण था, इसके लिए आईआईपी संस्था द्वारा किये गये रिसर्च के मुताबिक पिरूल से तारपीन का तेल और उसके भूसे से डीजल बनाने हेतु प्रोजेक्ट स्थापित किया जायेगा तथा राज्य सरकार 4 से 5 रुपये प्रतिकिलो के हिसाब से पिरूल खरीदेगी। जो लोगों के लिए रोजगार का जरिया भी बनेगा। महिलाओं के रोजगार हेतु प्रत्येक न्याय पंचायत पर सिलाई केन्द्र भी स्थापित किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि सीमांन्त क्षेत्रों में ईको टास्कफोर्स के माध्यम से 4 लाख अखरोट के पौध लगाने का लक्ष्य रखा गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उज्जवला योजना के तहत जो परिवार घरेलू गैस कनेक्शन से वंचित रह गये है, उन्हें राज्य सरकार के माध्यम से निःशुल्क गैस कनेक्शन उपलब्ध कराया जायेगा। राज्य के सभी आवास विहीन परिवारों को 2021 तक आवास मुहैया कराया जायेगा तथा 2019 तक प्रत्येक विद्युत विहीन परिवारों को नीदरलैंण्ड से आने वाले सोलर ब्रिफकेश के माध्यम से विद्युत आपूर्ति करायी जायेगी।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने गोपेश्वर में आॅडिटोरियम हाॅल निर्माण, राइका छिनका से मल्ला 5 किमी मोटर मार्ग, कोठियालसैंण-पाडुली-लीस बैंण्ड 4 किमी लिंक मोटर मार्ग, सलना डांडा 03 किमी मोटर मार्ग, कर्णप्रयाग-पोखरी मोटर मार्ग के चैडीकरण एवं सुधारीकरण, सुराईथोटा मोटर मार्ग, योगध्यानबद्री मोटर मार्ग, राजीव गांधी नवोदय विद्यालय में छात्रावास, बद्रीनाथ में घरेलू गैस एजेन्सी, पार्किंग, साइनेज, हैलीपैड, आधुनिक शौचालय, पुलना में पार्किंग की घोषणा की। इसके साथ ही विधानसभा क्षेत्र थराली के अन्तर्गत नन्दप्रयाग-घाट मोटर मार्ग के चैडीकरण एवं सुधारीकरण, लाटू देवता मंदिर के सौन्दर्यीकरण, नन्दा देवी से कुरूड पैदल मार्ग का सुधारीकरण, देवसारी बांध परियोजना, देहरादून-देवाल बस सेवा, वाण एवं ल्वाणी विद्यायल में 4 कक्षा कक्ष निर्माण की घोषणा भी  की।

कर्णप्रयाग विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत गैरसैंण में रामगंगा पर झील निर्माण, भराडीसैंण में हैलीपैड, पार्किंग निर्माण, राइका बरतोली, थिरपाक व सोनला में अतिरिक्त कक्षाकक्ष व कांस्वा में विद्यालय भवन निर्माण, आदिबद्री कांस्वा मोटर मार्ग के द्वितीय चरण के निर्माण की स्वीकृति, भराडीसैंण-गैरसैंण मोटर मार्ग चैडीकरण, सिमतोली पेयजल निर्माण, राइका थिरपाक का नाम परिवर्तित कर केदारनाथ आपदा के दौरान हैलीकाॅफ्टर दुर्घटना में शहीद हुए श्री अजय लाल के नाम करने की भी घोषाण की।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने बताया कि भराडीसैंण में विधानसभा भवन के पुनरीक्षण कार्य के लिए 148 करोड रूपये की स्वीकृति प्रदान की गयी है, जिसमें से 7 करोड़ की धनराशि इस वर्ष जारी की जायेगी तथा 1 करोड़ धनराशि डाॅरमैट्री और वांउन्डरी वाॅल के निर्माण हेतु स्वीकृत की गयी है।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने गोपेश्वर स्थित गोपीनाथ मंदिर पहुॅचकर पूजा-अर्चना की। इसके बाद पुलिस मैदान गोपेश्वर में निर्भीक पुलिस यूनिट का शुभ्भारभ किया। उन्होंने कहा कि राज्य में इस तरह की पहली पुलिस यूनिट महिलाओं पर हो रहे अपराधों को रोकने, यातायात को सुगम बनाने तथा दुर्घटनाओं पर त्वरित कार्यवाही करने में मददगार साबित होगी। उन्होंने पुलिस अधीक्षक के इस प्रयास की सराहना करते हुए निर्भीक पुलिस यूनिट को हरी झण्डी दिखाकर अपनी शुभकामनाएं दी। हीरों मोटर काॅर्प की ओर से निर्भीक पुलिस यूनिट को 25 हीरो बाईक तथा 5 मेडिकल फस्ट रिस्पोंडर बाईक उपलब्ध करायी गयी।