उत्तराखंड | गन्ना किसानों से त्रिवेंद्र का वादा- जल्द होगा बकाया भुगतान

76

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि गन्ना किसानों का बकाया भुगतान जल्द से जल्द पूरा किया जाएगा। राज्य सरकार किसानों के हित को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए कुशल प्रबन्धन हेतु चीनी मिलों को पीपीपी मोड पर संचालित करने की दिशा में कार्य किया जाएगा तथा कार्मिकों के हितो को पूर्णतः सुरक्षित रखा जाएगा।

राज्य की किच्छा, डोईवाला, बाजपुर व नादेही चीनी मिलों में एथॅनोल प्लान्ट लगाए जाने की कार्यवाही गतिमान है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गुरूवार को शुगर मिल डोईवाला के पेराई सत्र का विधिवत शुभारम्भ किया।

गौरतलब है कि डोईवाला शुगर मिल द्वारा गन्ने की अधिकाधिक बुवाई हेतु गन्ना विकास कार्ययोजना के अन्तर्गत अनेक योजनायें चलायी जा रही हैं। जिसमें मुख्य रूप से चीनी की उच्चतम रिकवरी की प्राप्ति हेतु गत् 3-4 वर्षो में मिल के सुरक्षित गन्ना क्षेत्रफल में अधिक चीनी पर्ते वाली गन्ने की उन्नत किस्मों की अधिकाधिक बुवाई करायी गई है ।

जिसके परिणामस्वरूप वर्ष 2018-19 में 57 प्रतिशत क्षेत्रफल में उन्नत प्रजाति के गन्ने का विस्तार हुआ है। गन्ने की उच्च पर्ता वाली प्रजातियों में मुख्य रूप से  COS&88230] CO&0238] CO&0239   तथा  COH&160 की बुवाई करायी जा रही है। आगामी पेराई सत्र में शीघ्र प्रजाति के गन्ना क्षेत्रफल में 70 प्रतिशत तक वृद्वि किये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।गत् पेराई सत्र में डोईवाला शुगर मिल को चीनी मिल के सुरक्षित गन्ना क्षेत्र डोईवाला, देहरादून तथा हरिद्वार, रुड़की एवं पौंटा साहिब आदि क्षेत्रों से 29.56 लाख कुन्टल गन्ने की आपूर्ति हुई। जिसकी पेराई कर मिल द्वारा 9.40 प्रतिशत चीनी पर्ता प्राप्त करते हुए। कुल 2,78,405 कुन्टल चीनी का निर्माण किया गया। गत् सत्र में कृषकों को कुल रु0 92.92 करोड़ गन्ना मूल्य की देय तथा जिसके सापेक्ष मिल द्वारा अभी तक अपने स्रोतों से रु0 46.86 करोड़ तथा शासन से प्राप्त वित्तीय सहायता से रु0 27.28 करोड़ का भुगतान किया गया है।

इस प्रकार कुल देय गन्ना मूल्य के सापेक्ष मिल द्वारा रु0 74.14 करोड़ का भुगतान किया जा चुका है जो कि कुल देय भुगतान का 80 प्रतिशत है। पेराई सत्र 2018-19 हेतु गन्ने की आवश्यकता तथा उपलब्धता के दृष्टिगत् गन्ना आयुक्त द्वारा मिल के सुरक्षित गन्ना क्षेत्रफल का निर्धारण करते हुए मिल को 51 बाहृय क्रय केन्द्र आवंटित किये हैं।

उक्त के अतिरिक्त पौंटा साहिब क्षेत्र के 3 क्रय केन्दों से भी गन्ने की आपूर्ति करायी जायेगी। पेराई सत्र 2018-19 के लिए कम्पनी द्वारा 32 लाख कुन्टल गन्ने की पेराई एवं 9.50 प्रतिशत चीनी पर्ता प्राप्त किये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

चीनी मिल की आर्थिक स्थिति में सुधार लाये जाने के उद्धेश्य से मिल में ऐथेनाल प्लान्ट स्थापित कराये जाने की कार्यवाही गतिमान है, जिसके लिए  National Federation of Co-operative Sugar Factories Limited  से एक सप्ताह के भीतर  DPR  प्राप्त हो जायेगी।इस अवसर पर गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग विभाग के वरिष्ठ अधिकारी व डोईवाला शुगर मिल के अधिकारी व कार्मिक उपस्थित थे।

Follow us on twitter – https://twitter.com/uttarakhandpost

Like our Facebook Page – https://www.facebook.com/Uttrakhandpost/