मुख्य सचिव ने की श्री केदारनाथ पुनर्निर्माण के मास्टर प्लान की समीक्षा

देहरादून [उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो] मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने बुधवार को सचिवालय में श्री केदारनाथ पुनर्निर्माण के मास्टर प्लान की समीक्षा की। निर्देश दिए कि सभी संबंधित विभाग डिजाइन के अनुसार डीपीआर 10 दिन में बना लें। हर हाल में फरवरी के पहले हफ्ते में कार्य शुरू हो जाना चाहिए। जन सुविधा के सभी कार्य कपाट खुलने के पहले हो जाने चाहिए। तत्काल महत्व के कार्यों को प्राथमिकता के आधार पर फरवरी तक पूरा कर लिया जाएगा। दीर्घकालीन योजना के कार्य चलते रहेंगे।

गौरतलब है कि श्री केदारनाथ में पहली बार बर्फ पड़ने के बावजूद भी दिसम्बर व जनवरी के महीने में भी निर्माण कार्य जारी रखा गया। इस समय 50 फीट चैड़ी सड़क का निर्माण मंदिर तक किया जा रहा है। बाढ़ सुरक्षा दीवार और घाट निर्माण का कार्य चल रहा है। सड़क के दोनों ओर 10-10 फीट की जगह खाली रखी गयी है। इस बफर जोन में यूटिलिटी डक्ट और ड्रेन बनाया जाएगा। यूटिलिटी डक्ट के अंदर ही पेयजल की पाइप लाइन होगी। सिवरेज और स्टॉर्म वॉटर के लिए अलग डक्ट बनाया जाएगा। पाइपलाइन को जमीन के 01 मीटर नीचे मिट्टी के बीच में लगाया जाएगा, जिससे कि पानी बर्फ से जम न जाये। पानी सप्लाई के लिए जलाशय बनाया जाएगा। ग्रेविटी के जरिए सप्लाई की जाएगी। मंदिर के दोनों ओर जगह खाली रखी जायेगी। दर्शनार्थियों की प्रतीक्षा के लिए अलग स्थान सुरक्षित रखा जाएगा। इसके अलावा सरस्वती और मंदाकिनी घाट के ऊपर चेंजिंग रूम, लाकर, टॉयलेट बनाये जायेंगे। दिव्यांग दर्शनार्थियों के लिए रैंप बनाये जाएंगे। केदारपुरी से दूर एसटीपी, बायो डाइजेस्टर बनाया जाएगा।

श्री केदारनाथपुरी को दिव्य और भव्य स्वरूप प्रदान करने के लिए विशेषज्ञों, संस्थानों से अध्ययन कराने के बाद डिजाइन के अनुसार मास्टर प्लान तैयार किया गया है। चरणबद्ध रूप से प्लान को लागू किया जा रहा है।

बैठक में प्रमुख सचिव सिंचाई आनंद बर्धन, मंडलायुक्त गढ़वाल दिलीप जावलकर, सचिव ऊर्जा श्रीमती राधिका झा, सचिव पेयजल अरविंद सिंह ह्यांकी, अपर सचिव ऊर्जा जे.पी.जोशी, डीएम रुद्रप्रयाग मंगेश घिल्डियाल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

(उत्तराखंड पोस्ट के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैंआप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)