कोरोना संकट में बदरीनाथ धाम के कपाट खुले तो हुआ चमत्कार, पुजारी बोले- ये देश के लिए शुभ संकेत

बदरीनाथ (उत्तराखंड पोस्ट) शुक्रवार, 15 मई 2020 को सुबह 4.30 बजे विधि-विधान और वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ बदरीनाथ धाम के कपाट ग्रीष्मकाल के लिए खोल दिए गए। कपाट खोलने के दौरान पूरे मंदिर परिसर में 28 लोग ही मौजूद थे। ऐसे वक्त में जब भारत कोरोना महामारी के संकट में घिरा हुआ है तो बदरीनाथ
 
कोरोना संकट में बदरीनाथ धाम के कपाट खुले तो हुआ चमत्कार, पुजारी बोले- ये देश के लिए शुभ संकेत

बदरीनाथ (उत्तराखंड पोस्ट) शुक्रवार, 15 मई 2020 को सुबह 4.30 बजे विधि-विधान और वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ बदरीनाथ धाम के कपाट ग्रीष्मकाल के लिए खोल दिए गए। कपाट खोलने के दौरान पूरे मंदिर परिसर में 28 लोग ही मौजूद थे।

ऐसे वक्त में जब भारत कोरोना महामारी के संकट में घिरा हुआ है तो बदरीनाथ धाम में कपाट खुलने के साथ ही भगवान बदरीनाथ ने ऐसा चमत्कार दिखाया जो सालों में एक बार ही होता है। धाम के पुरोहित ने इस देश के लिए शुभ संकेत बताया है।

क्या है वो चमत्कार, वीडियो में जानिए-

लॉकडाउन के दौरान ऐसे खुले बदरीनाथ धाम के कपाट – कपाट खोलने के दौरान पूरे मंदिर परिसर में 28 लोग ही मौजूद थे। सवा तीन बजे बदरीनाथ धाम के दक्षिण द्वार से भगवान कुबेर की उत्सव डोली और तेल कलश यात्रा ने परिक्रमा स्थल में प्रवेश किया। इसके बाद कुबेर जी की प्रतिमा को बदरीश पंचायत (गर्भगृह) में स्थापित किया गया। लॉकडाउन के कारण धाम के कपाट तो सादगी से खुल गए लेकिन इस दौरान चारों ओर सन्नाटा पसरा रहा। न बदरीविशाल के जयकारे सुनाई दिए ना ही आर्मी जवानों की मनमोहक बैंड की धुन सुनाई दी। इसके अलावा महिलाओं का समूह में पारंपरिक नृत्य भी नहीं हुआ।

 

 

कपाट खुलने के दौरान सामाजिक दूरी का पूरा पालन किया गया। कपाट खुलने से पहले पूरे मंदिर परिसर को सैनिटाइज किया गया। बदरीनाथ मंदिर को चारों ओर से गेंदे के फूलों से सजाया गया था।

Youtube – http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost

Twitter– https://twitter.com/uttarakhandpost                        

Facebook Page– https://www.facebook.com/Uttrakhandpost

Instagram-https://www.instagram.com/postuttarakhand/                               

From around the web