खुशख़बरी | 15 फरवरी से दौड़ेगी ‘वंदे भारत’ एक्सप्रेस ट्रेन, इतना होगा यात्री किराया

335

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) दिल्ली और वाराणसी के बीच वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 15 फरवरी को हरी झंडी दिखाएंगे। यह भारत की पहली इंजन रहित ट्रेन है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि इतनी ही दूरी के लिए शताब्दी ट्रेनों के किराये की तुलना में चेयर कार का किराया 1.5 गुना अधिक है और प्रीमियम ट्रेन में प्रथम श्रेणी वातानुकूलित किराये से एक्जीक्यूटिव क्लास का किराया 1.4 गुना अधिक है

ट्रेन की चेयर कार का किराया 1,850 रुपये और एक्जीक्यूटिव क्लास के लिए 3,520 रुपये होगा। किराये में खानपान सेवा शुल्क शामिल है। रेलवे के मुताबिक वापसी यात्रा के दौरान चेयर कार (सीसी) के लिए टिकट का किराया 1,795 रुपये जबकि एक्जीक्यूटिव क्लास (ईसी) टिकट का किराया 3,470 रुपये होगा।

दिल्ली और कानपुर (447 किलोमीटर) के बीच चेयर कार में टिकट किराया 1,150 रुपये और ईसी के लिए 2,245 रुपये होगा, जबकि दिल्ली और प्रयागराज (642 किलोमीटर) के बीच सीसी और ईसी का किराया क्रमश: 1,480 रुपये और 2,935 रुपये होगा।

सूत्रों ने बताया कि कानपुर और प्रयागराज (195 किलोमीटर) के बीच सीसी के लिए किराया 630 रुपये और ईसी के लिए किराया 1,245 रुपये होगा। कानपुर और वाराणसी (319 किलोमीटर) के बीच सीसी के लिए किराया 1,065 जबकि ईसी टिकट का किराया 1,925 होगा। सूत्रों ने बताया कि इस ट्रेन में दो श्रेणियां- एग्जीक्यूटिव और चेयर कार हैं और इनमें भोजन की कीमत अलग-अलग है।

वंदे भारत एक्सप्रेस या ट्रेन 18 एक वातानुकूलित चेयर कार है। दिल्ली और वाराणसी के बीच यात्रा के लिए इसे लगभग आठ घंटे लगेंगे और रास्ते में यह केवल दो स्टेशनों कानपुर और इलाहाबाद (प्रयागराज) में रुकेगी।

Follow us on twitter –https://twitter.com/uttarakhandpost

Like our Facebook Page – https://www.facebook.com/Uttrakhandpost/