उत्तराखंड में 2014 के मुकाबले कम पड़े वोट, जानिए वोट प्रतिशत गिरने के मायने

1148

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) लोकसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान समाप्‍त हो गया। उत्तराखंड की पांचों लोकसभा सीट पर कुल मिलाकर 57.85 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

जानकारी के अनुसार शाम पांच बजे तक टिहरी सीट पर 54.38, पौड़ी सीट पर 49.89, अल्मोड़ा सीट पर 48.78, नैनीताल सीट पर 66.39 और हरिद्वार सीट पवर 66.39 फीसदी मतदान हुआ है। अंतिम आंकडे आने पर मतदान प्रतिशत थोड़ा औऱ ब़ढ़ सकता है।

2014 में मतदान प्रतिशत और नतीजे | 2014 के आम चुनाव के मुकाबले इस बार उत्तराखंड की पांचों लोकसभा सीट पर मतदान प्रतिशत में गिरावट आई है। 2014 में टिहरी लोकसभा सीट में 57.44 फीसदी वोट पड़े थे और यहां से बीजेपी की माला राज्य लक्ष्मी शाह ने जीत दर्ज की थी। वहीं पौड़ी-गढ़वाल लोकसभा सीट पर 2014 में 53.98 फीसदी मत पड़े थे और यहां से बीसी खंडूरी ने चुनाव जीता। अल्मोड़ा लोकसभा सीट की अगर बात करें तो पिछले आम चुनाव में यहां 52.41 फीसदी लोगों ने मतदान किया था और यहां अजय टम्टा ने जीत दर्ज की थी। इसी तरह नैनीताल-ऊधम सिंह नगर सीट पर 68.41 प्रतिशत वोट पड़े थे और यहां से बीसी कोश्यारी ने जीत हासिल की थी। हरिद्वार लोकसभा सीट पर 2014 में 71.57 फीसदी मत पड़े थे और यहां से भी बीजेपी के रमेश पोखरियाल निशंक चुनाव जीते थे।

मतदान प्रतिशत में गिरावट के क्या मायने | 2014 के मुकाबले इस बार उत्तराखंड में मतदान प्रतिशत गिरा है और पांचों सीट पर वोट कम पड़े। मतदान प्रतिशत में ये गिरावट करीब 4 से 5 फीसदी के बीच है। आम तौर पर माना जाता है कि मौजूदा जनप्रतिनिधि या सरकार के खिलाफ नाराजगी होने पर एंटी इंकमबैंसी फैक्टर कमा करता है और बदलाव के लिए लोग बढ़-चढ़कर वोट करते हैं लेकिन मतदान प्रतिशत में मामूली गिरावट ईशारा कर रही है कि बीजेपी को उत्तराखंड से अच्छी ख़बर मिल सकती है।

हमारा Youtube  चैनल Subscribe करें http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost 

हमें ट्विटर पर फॉलो करेंhttps://twitter.com/uttarakhandpost

हमारा फेसबुक पेज लाइक करें – https://www.facebook.com/Uttrakhandpost/