इस दिन खुलेंगे यमुनोत्री धाम के कपाट, इतिहास में पहली बार होगा कुछ ऐसा

उत्तराखंड के चारों धामों में से एक यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने का मुहूर्त तय हो गया है। यमुनोत्री धाम के कपाट 14 मई को अभिजीत मुहूर्त में दोपहर 12.15 बजे श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाएंगे।
 
इस दिन खुलेंगे यमुनोत्री धाम के कपाट, इतिहास में पहली बार होगा कुछ ऐसा

उत्तरकाशी (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड के चारों धामों में से एक यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने का मुहूर्त तय हो गया है। यमुनोत्री धाम के कपाट 14 मई को अभिजीत मुहूर्त में दोपहर 12.15 बजे श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाएंगे। इसी दिन सुबह 9 बजकर 15 मिनट पर शीतकालीन प्रवास स्थल खुशीमठ से यमुना की डोली शनि महाराज की अगुवायी में यमुनोत्री के लिए रवाना होगा। यह पहली बार होगा जब गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट अलग-अलग दिन खुलेंगे। यह इसलिए हो रहा है कि इस बार अक्षय तृतीय का पर्व दो दिन यानि 14 मई की सुबह साढ़े सात बजे से लेकर और 15 मई की सुबह 7 बजकर 50 मिनट तक रहेगा।

यमुना जयंती के अवसर पर रविवार को खुशीमठ में यमुनोत्री धाम के तीर्थ पुरोहितों ने कपाट खुलने की तिथि और मुहूर्त को लेकर मंथन किया। इसमें ज्योतिषाचार्यों ने यह तय किया कि 14 मई को अक्षय तृतीय के पर्व पर ही यमुनोत्री धाम के कपाट खोले जाएंगे। यमुनोत्री मंदिर समिति के सचिव कृतेश्वर उनियाल ने कहा कि विद्वानों और ज्योतिषाचार्यों से राय मशवरा कर तय किया गया कि 14 मई की सुबह 9 बजकर 15 मिनट पर यमुना की डोली अपने भाई शनिदेव की अगुवायी में यमुनोत्री के लिए रवाना होगी।

आपको बता दें कि चारधाम यात्रा में कोरोना गाइडलाइन का पालन होगा। गौरतलब है कि सदियों से गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीय के पर्व पर खुलते हैं। लेकिन, इस बार अक्षय तृतीय का पर्व दो दिनों में व्यतीत हो रहा है। उदय बेला 15 मई को होने के कारण गंगोत्री धाम के तीर्थ पुरोहितों ने 15 मई की सुबह 7 बजकर 30 मिनट कपाट खोलने का निर्णय लिया है।

From around the web