उत्तराखंड | भर्ती घोटाले के आरोप पर सवाल पूछा तो भड़क गए धामी के मंत्री, देखिए वीडियो

  1. Home
  2. Dehradun

उत्तराखंड | भर्ती घोटाले के आरोप पर सवाल पूछा तो भड़क गए धामी के मंत्री, देखिए वीडियो

Prem

तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष और वर्तमान में धामी सरकार में मंत्री प्रेम चंद्र अग्रवाल नियुक्तियों को जायज ठहरा रहे हैं। मीडिया ने जब अग्रवाल से सवाल किया तो वे बोले की उस वक्त की गई नियुक्तियां टेंपररी अरेजमेंट था। हालांकि मीडिया के काउंटर करने पर अग्रवाल साफ साफ जवाब नहीं दे पाए और इन नियुक्तियों को सही ठहराने लगे। मीडिया ने सफाई चाही तो प्रेम चंद्र अग्रवाल भड़क गए।


 

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड में विधाासभा में भर्तियों को लेकर बवाल मचा हुआ है। कांग्रेस ने इस मामले में सरकार को घेरते हुए मामले की जांच की मांग की है। शनिवार को महिला कांग्रेस नेत्रियों नें विधानसभा में बैक डोर से हुई नियुक्तियों के विरोध में विधानसभा के मुख्य द्वार पर राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए पुतला दहन किया।

वहीं तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष और वर्तमान में धामी सरकार में मंत्री प्रेम चंद्र अग्रवाल नियुक्तियों को जायज ठहरा रहे हैं। मीडिया ने जब अग्रवाल से सवाल किया तो वे बोले की उस वक्त की गई नियुक्तियां टेंपररी अरेजमेंट था। हालांकि मीडिया के काउंटर करने पर अग्रवाल साफ साफ जवाब नहीं दे पाए और इन नियुक्तियों को सही ठहराने लगे। मीडिया ने सफाई चाही तो प्रेम चंद्र अग्रवाल भड़क गए।

नीचे क्लिक कर सुनिए प्रेम चंद्र अग्रवाल ने क्या कहा ?

हीं कांग्रेस प्रवक्ता गरिमा दसौनी ने कहा- तमाम भर्तियों के बाद अब बारी उत्तराखंड विधानसभा में हुई नियुक्ति सुना है 129 नियुक्ति में पैसे वाले और पहुंच वालों की चली है 70 विधायकों वाली विधानसभा में 560 कर्मी वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश जहां 400 से ज्यादा विधायक है वहां मात्र 543 कर्मी हैं।

वहीं कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा ने कहा कि विधानसभा में नियुक्ति देने के मामले में उत्तर प्रदेश को भी पीछे छोड़ दिया है। उत्तराखंड विधानसभा में उत्तर प्रदेश की विधानसभा से ज्यादा कर्मचारी तैनात हैं। उन्होंने विधानसभा में हुई भर्तियों में भी गड़बड़ी का आरोप लगाया है। माहरा ने कहा कि पूर्व में 129 भर्तियों में खेल हुआ है। 

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि विधानसभा में बड़े नेताओं के चहेतों को रेवड़ी की तरह नौकरियां बांटकर प्रदेश के युवाओं से छलावा किया गया है। उत्तर प्रदेश की 403 सदस्यों वाली विधानसभा में 543 कर्मचारी व अधिकारी कार्यरत हैं, जबकि 70 सदस्यों वाली उत्तराखंड की विधानसभा में 560 से अधिक कर्मचारी व अधिकारी कार्यरत हैं।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा ने कहा कि विधानसभा में नियुक्ति देने के मामले में उत्तर प्रदेश को भी पीछे छोड़ दिया है। उत्तराखंड विधानसभा में उत्तर प्रदेश की विधानसभा से ज्यादा कर्मचारी तैनात हैं। उन्होंने विधानसभा में हुई भर्तियों में भी गड़बड़ी का आरोप लगाया है। माहरा ने कहा कि पूर्व में 129 भर्तियों में खेल हुआ है। 

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि विधानसभा में बड़े नेताओं के चहेतों को रेवड़ी की तरह नौकरियां बांटकर प्रदेश के युवाओं से छलावा किया गया है। उत्तर प्रदेश की 403 सदस्यों वाली विधानसभा में 543 कर्मचारी व अधिकारी कार्यरत हैं, जबकि 70 सदस्यों वाली उत्तराखंड की विधानसभा में 560 से अधिक कर्मचारी व अधिकारी कार्यरत हैं।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश में बेरोजगारी बढ़ती जा रही है। जिसका यह मतलब नहीं है कि नियमों को ताक पर रखकर सिर्फ पहुंच वाले और बड़े लोगों के सगे संबंधियों को ही मौका दिया जाए। उन्होंने आरोप लगाया कि विधानसभा में भाजपा के कई बड़े नेताओं और मंत्रियों के नजदीकियों को नौकरी दी गई है।


 

uttarakhand postपर हमसे जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक  करे , साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमे गूगल न्यूज़  google newsपर फॉलो करे