उत्तराखंड में कोरोना का कहर, फिर लगेगा लॉकडाउन !

उत्तराखंड में कोरोना की रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रही है। बुधवार को उत्तराखंड में 293 नए कोरोना संक्रमित मिलने के बाद प्रदेश में कुल संक्रमितों की संख्या 1,00,412 हो गई है। वहीं सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़कर 1864 हो गई है। राज्य में अब तक 1717 मरीजों की मौत हो चुकी है। अगर कोरोना का संक्रमण इसी रफ्तार से बढ़ता रहा, तो आने वाले समय में उत्तराखंड को लॉकडाउन का सामना भी करना पड़ सकता है।
 
उत्तराखंड में कोरोना का कहर, फिर लगेगा लॉकडाउन !

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड में कोरोना की रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रही है। बुधवार को उत्तराखंड में 293 नए कोरोना संक्रमित मिलने के बाद प्रदेश में कुल संक्रमितों की संख्या 1,00,412 हो गई है। वहीं सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़कर 1864 हो गई है। राज्य में अब तक 1717 मरीजों की मौत हो चुकी है। अगर कोरोना का संक्रमण इसी रफ्तार से बढ़ता रहा, तो आने वाले समय में उत्तराखंड को लॉकडाउन का सामना भी करना पड़ सकता है।

इस बात का संकेत राज्य के चीफ सेक्रेटरी ओम प्रकाश ने इस बात के संकेत दिए हैं। उनका कहना है कि एहतियातन कोरोना संक्रमण वाले क्षेत्रों में कंटेनमेंट और माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाए जा रहे हैं और यदि जरूरत पड़ी तो अधिक कोरोना संक्रमण वाले क्षेत्रों में लॉकडाउन भी लगाया जा सकता है।

उत्तराखंड में सबसे अधिक खतरा कोरोना वायरस के बदले हुए रूप को लेकर बना हुआ है। हालांकि स्वास्थ्य महानिदेशक तृप्ति बहुगुणा का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग इस पर नजर रखे हुए है। प्रतिदिन आने वाले कुल पॉजिटिव केसों का 5 फीसदी सैंपल जीनोम सिक्वेंस के लिए हायर सेंटर को रेफर किए जा रहे हैं। शुरुआती दौर में एक व्यक्ति में जर्मनी का स्ट्रेन पाए जाने के अलावा कोई नया केस सामने नहीं आया है।

चीफ सेक्रेटरी ओमप्रकाश का कहना है कि हमारी सबसे अधिक चिंता हरिद्वार को लेकर बनी हुई है। हरिद्वार महाकुंभ क्षेत्र सबसे अधिक संवेदनशील बना हुआ है. चीफ सेक्रेटरी ने हरिद्वार क्षेत्र वासियों से अपील की है कि वे अधिक से अधिक संख्या में वैक्सीनेशन कराने को आगे आएं, क्योंकि पूरे कुंभ काल में हरिद्वार में देश-विदेश के श्रद्धालु मौजूद रहेंगे और कोरोना संक्रमण का खतरा बना रहेगा।

बता दें कि गुरुवार को कोटद्वार की एसडीएम के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद तहसील परिसर में हड़कंप मच गया। इसके बाद तहसील परिसर को फिलहाल 48 घंटों के लिए सील कर दिया गया है। इसके अलावा राज्य के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत खुद कोविड पॉजिटिव हैं और इन दिनों आइसोलेशन में हैं। बुधवार को उनकी पत्नी रश्मि रावत की रिपोर्ट भी कोविड पॉजिटिव पाई गई है। उनको होम आइसोलेशन में रखा गया है। इसके अलावा पूर्व सीएम हरीश रावत, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी भी कोरोना पॉजिटिव हैं। हरीश रावत दिल्ली एम्स, तो सुरेंद्र सिंह नेगी देहरादून के एक निजी हॉस्पिटल में उपचार करा रहे हैं।

कोरोना के तेजी से बढ़ते प्रभाव को देखते हुए सभी जिलों में सीएमओ और डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट को टेस्टिंग और कांटेक्ट ट्रैसिंग में तेजी लाने के निर्देश दे दिए गए हैं। हरिद्वार में पूरी सतर्कता बरती जा रही है। मेला अस्पताल के अलावा साढ़े 500 बेड का कोविड डेडिकेटेड हॉस्पिटल हरिद्वार में बनाया गया है. इसके अलावा विभिन्न अस्थाई प्रकृति अस्पताल भी रन कर रहे हैं। साथ ही  सरकार ने यूपी, महाराष्ट्र, गुजरात समेत 12 राज्यों से आने वाले लोगों के लिए कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट लाना आज से अनिवार्य कर दी है। राज्य के बॉर्डर पर करीब 25 स्थानों पर चेक पोस्ट बना कर बाहर से आने वाले यात्रियों पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है।

From around the web