उत्तराखंड बोर्ड की परीक्षा पर इस कोशिश में है सरकार, शिक्षा मंत्री का बयान आया सामने

देश में कोरोना वायरस की रफ्तार हर दिन नया रिकॉर्ड बना रही है। बीते 24 घंटे में पॉजिटिव केसों की संख्या 2 लाख 16 हजार से अधिक पाई गई है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक गुरुवार को देश में कोरोना के 2 लाख 16 हजार 850 नए मामले दर्ज किए गए। पिछले 24 घंटे में 1183 लोगों की मौत हुई है नए मामले सामने आने के बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 14287740 हो गई है। कोरोना से पीड़ित लोगों के ठीक होने की दर और गिरकर 89.51 प्रतिशत रह गई है।
 
उत्तराखंड बोर्ड की परीक्षा पर इस कोशिश में है सरकार, शिक्षा मंत्री का बयान आया सामने

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) देश में कोरोना वायरस की रफ्तार हर दिन नया रिकॉर्ड बना रही है। बीते 24 घंटे में पॉजिटिव केसों की संख्या 2 लाख 16 हजार से अधिक पाई गई है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक गुरुवार को देश में कोरोना के 2 लाख 16 हजार 850 नए मामले दर्ज किए गए। पिछले 24 घंटे में 1183 लोगों की मौत हुई है नए मामले सामने आने के बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 14287740 हो गई है। कोरोना से पीड़ित लोगों के ठीक होने की दर और गिरकर 89.51 प्रतिशत रह गई है।

कोरोना के इस कोहराम के बीच CBSE पहले ही 10वीं बोर्ड की परीक्षा रद्द कर चुका है और 12वीं की परीक्षा भी स्थगित कर दी जा चुकी हैं। वहीं इसके बाद कई स्टेट बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित करने का फैसला ले चुके है। पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित किया जा चुका है। लेकिन अभी तक उत्तराखंड बोर्ड द्वारा इस पर कोई बात नही कही गयी है। कोरोना की रफ्तार के बीच परीक्षाओं के स्थगित होने के अनुमान लगाए जा रहे है।

आपको बता दें कि उत्तराखंड में बृहस्पतिवार 15 अप्रैल से राज्य में वर्ष 2021-22 का शैक्षणिक सत्र प्रारंभ हो गया है। इसके तहत राज्य में देहरादून, हरिद्वार व नैनीताल जनपद के कुछ नगर निकायों को छोड़कर शेष जगह कक्षाएं नियमानुसार शुरू होनी हैं। हालांकि सरकार ने 10वीं व 12वीं कक्षाओं को छोड़कर अन्य कक्षाओं को बंद करने का आदेश भी जारी किया है। वहीं बोर्ड परीक्षाओं को लेकर सरकार हालातों को देखते हुए पिछले वर्ष की तरह बोर्ड परीक्षाएं करा लेने की कोशिश में है।

इस संबंध में राज्य के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने कहा कि बोर्ड परीक्षा कार्यक्रम में अभी किसी तरह की तब्दीली नहीं की गई है। उत्तराखंड बोर्ड ने पिछले सत्र में कोरोना के बीच ही परीक्षाएं कराई थीं। अब कोरोना संक्रमण से उत्पन्न परिस्थितियों पर नजर रखी जा रही है। जरूरत हुई तो परीक्षा कार्यक्रम में फेरबदल या परीक्षाएं स्थगित करने पर विचार किया जाएगा। वहीं शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम का कहना है कि सीबीएसई राष्ट्रीय बोर्ड है, इसलिए वह परीक्षाओं पर फैसला राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में लेता है। कई राज्यों में कोरोना से हालात चिंताजनक हैं, इसलिए परीक्षाओं पर फैसला ले लिया गया है।

मालूम हो कि उत्तराखंड बोर्ड की हाईस्कूल और इंटर की बोर्ड परीक्षाएं आगामी चार मई से 22 मई तक होनी हैं। प्रदेश में बोर्ड परीक्षाओं के लिए 1347 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इन केंद्रों में हाईस्कूल के 1,48,355 और इंटरमीडिएट के 1,22,184 छात्र-छात्राओं को परीक्षा देनी है। हाईस्कूल में 1,45,691 लाख संस्थागत और 2664 व्यक्तिगत तथा इंटरमीडिएट में 1,18,135 संस्थागत और 4049 व्यक्तिगत परीक्षार्थी है।

From around the web