उत्तराखंड के दो जवान शहीद, घर में इकलौते कमाने वाले थे हिमांशु, मचा कोहराम

बीते दिन पूर्वी सिक्किम से उत्तराखंड सहित देश के लिए बुरी खबर सामने आई थी। बीते शाम पूर्वी सिक्किम में सेना का वाहन खाई में जा गिरी जिसमे चार जवानों की मौत हो गई। बता दें कि वाहन में कुमाऊं रेजीमेंट के 6 जवान सवार थे जिनमे से 4 की मौत हो गई।
 
0000

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) बीते दिन पूर्वी सिक्किम से उत्तराखंड सहित देश के लिए बुरी खबर सामने आई थी। बीते शाम पूर्वी सिक्किम में सेना का वाहन खाई में जा गिरी जिसमे चार जवानों की मौत हो गई। बता दें कि वाहन में कुमाऊं रेजीमेंट के 6 जवान सवार थे जिनमे से 4 की मौत हो गई।

इन 4 में से दो जवान उत्तराखंड के थे। 7 कुमाऊं रेजिमेंट के थे, इसमें बृजेश रौतेला” रानीखेत के ताडी़खेत विकासखंड के निवासी बताए जा रहे हैं जबकि दूसरा जवान हिमांशु नेगी रामनगर जिला नैनीताल के रहने वाले बताए जा रहे है।

इस खबर के बाद दोनों के परिवारों में कोहराम मच गया है। आपको बता दें कि शहीद हिमांशु नेगी अपने घर पर इकलौता कमाने वाला था। हिमांशु का एक भाई दिव्यांग है और दूसरे का एक हाथ खराब है। छोटी बहन बीएससी में पढ़ रही है।

जानकारी के अनुसार हिमांशु नेगी 27 मार्च 2019 को हिमांशु कुमाऊँ रेजीमेंट में बतौर सिपाही भर्ती हुआ था। जवान के घर में मां कमला देवी, दो भाई और एक बहन के साथ दादी रहती हैं। उसकी छोटी बहन दीपा राम नगर के पीएनजी कॉलेज में बीएससी फर्स्ट ईयर की छात्रा है। हिमांशु के दादा जय सिंह भी फौज में सिपाही थे। वह भी 1980 में गंगटोक में ही शहीद हुए थे। हिमांशु का सपना था कि वह बहन और भाइयों के लिए कुछ करे और उन्हें अपने पैरों पर खड़ा करके कुछ बनाए। हिमांशु की इच्छा थी कि चारों भाई-बहन एक साथ शादी करें। पूरा परिवार उसकी शादी की राह देख रहा था। इसी दौरान आई इस मनहूस खबर ने सारी खुशियों को उजाड़ कर रख दिया।

From around the web