उत्तराखंड | तेजी से बढ़ रहे है ब्लैक फंगस के केस, अब सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला, यहां पढ़े

उत्तराखंड में ब्लैक फंगस का खतरा तेजी से बढ़ रहा है। प्रदेश में तेजी से ब्लैक फंगस के मामले बढ़ रहे हैं। मरीजों के इलाज में खर्च भी काफी आ रहा है।
 
0000

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड में ब्लैक फंगस का खतरा तेजी से बढ़ रहा है। प्रदेश में तेजी से ब्लैक फंगस के मामले बढ़ रहे हैं। मरीजों के इलाज में खर्च भी काफी आ रहा है।

इस बीच बड़ी खबर सामने आयी है। सरकार ने फैसला लिया है कि ब्लैक फंगस का इलाज आयुष्मान कार्ड के तहत किया जायगा। इसके लिए राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण ने पैकेज तय कर दिए हैं। प्राधिकरण ने अस्पतालों से भी ऐसे मरीजों का विवरण उपलब्ध कराने को कहा है।

प्राधिकरण के अध्यक्ष डीके कोटिया ने बताया कि वर्तमान में कोविड-19 से संक्रमित रहे मरीजों में ब्लैक फंगस के गंभीर मामले सामने आ रहे हैं। कुछ मरीजों को सर्जरी की भी जरूरत पड़ रही है। इसके लिए आयुष्मान कार्ड धारकों के इलाज के लिए आपातकालीन पैकेज तय कर सूचीबद्ध अस्पतालों को सूचित कर दिया गया है।

उन्होंने ऐसे अस्पतालों से ब्लैक फंगस के भर्ती मरीजों का विवरण भी तत्काल उपलब्ध कराने को कहा है ताकि दवाईयों और सर्जरी पर होने वाले खर्च का भुगतान एक सप्ताह के भीतर हो सके। उन्होंने बताया कि प्राधिकरण के अधिकारी सूचीबद्ध निजी अस्पतालों में भर्ती कोविड-19 के मरीजों से लगातार सम्पर्क कर उनकी समस्याओं का समाधान कर रहे हैं।

राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरुणेद्र सिंह चौहान ने आयुष्मान कार्ड धारकों से अपील की गयी है कि यदि ब्लैक फंगस के इलाज के दौरान योजना का लाभ उठाने में कोई परेशानी आती है तो इसकी जानकारी प्राधिकरण को जरूर दें। उन्होंने बताया कि प्राधिकरण अब तक लाभार्थियों के इलाज के लिए सात करोड़ 50 लाख की धनराशि का भुगतान विभिन्न अस्पतालों को कर चुका है।

From around the web