रद्द होंगी 12वीं की परीक्षा ? सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

कोरोना काल में शिक्षा पर बहुत प्रभाव पड़ा है। इस साल CBSE के 10वीं बोर्ड की परीक्षाएं रद्द हो गयी है जबकि 12वीं की परीक्षाओं पर फैसला अभी बांकि है। 23 मई को हुई हाई लेवल मीटिंग में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा था कि 12वीं की परीक्षा की तारीखों पर 1 जून को फैसला लिया जा सकता है।
 
Supreme Court SC

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) कोरोना काल में शिक्षा पर बहुत प्रभाव पड़ा है। इस साल CBSE के 10वीं बोर्ड की परीक्षाएं रद्द हो गयी है जबकि 12वीं की परीक्षाओं पर फैसला अभी बांकि है। 23 मई को हुई हाई लेवल मीटिंग में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा था कि 12वीं की परीक्षा की तारीखों पर 1 जून को फैसला लिया जा सकता है।

आज सुप्रीम कोर्ट में कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई होगी। एडवोकेट ममता शर्मा द्वारा दायर एक याचिका में सीबीएसई और सीआईएससीई द्वारा आयोजित कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने की मांग की गई है।

याचिका में एक विशिष्ट समय सीमा के भीतर परिणाम घोषित करने के लिए एक 'ऑब्जेक्टिव मैथडोलॉजी’ तैयार करने के निर्देश भी मांगे  गए हैं। इसके साथ ही शीर्ष अदालत टोनी जोसेफ द्वारा दायर अन्य याचिका पर भी विचार करेगी, जिसमें तर्क दिया गया है कि 12वीं की  परीक्षाओं को रद्द नहीं किया जाना चाहिए। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर सुबह 11 बजे सुनवाई करेगा।

बता दें कि “शिक्षाविदों और संस्थानों के प्रमुखों का एक बड़ा वर्ग परीक्षा आयोजित करने के पक्ष में है। एजुकेशन एक्सपर्ट्स का कहना है कि परीक्षा रद्द नहीं की जानी चाहिए और डिजिटल माध्यमों का उपयोग करके आयोजित की जानी चाहिए।

जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस दिनेश माहेश्वरी की पीठ ने 28 मई को इस मामले को स्थगित कर दिया था। इसके साथ ही अदालत ने यह भी कहा था कि सीबीएसई इस मुद्दे पर एक जून को फैसला ले सकता है। बता दें कि जब याचिकाकर्ता ने पीठ से कहा था कि शीर्ष अदालत इस मुद्दे पर स्वत: संज्ञान ले सकती है, तो पीठ ने कहा, “आशावादी बनें। हो सकता है सोमवार तक कोई समाधान निकल जाए। इसलिए इस मामले पर सोमवार को सुनवाई करते हैं। ”

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के घातक परिणाम को देखते हुए पिछले कुछ दिनों में हजारों छात्रों ने कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा रद्द करने की मांग की है। वहीं रविवार को छात्रों ने ट्विटर पर #cancelboardexams का उपयोग करके अपने विचार साझा किए।

बता दें कि ऐसे में अगर आज सुप्रीम कोर्ट का रुख परीक्षाएं आयोजित कराने के पक्ष में होता है तो 1 जून को ही परीक्षा की तारीख घोषित की जा सकती है। ऐसे में हर किसी की नजर आज सुप्रीम कोर्ट में होने वाली सुनवाई पर टिकी है।

From around the web