उत्तराखंड | प्रदेश अध्यक्ष के इस बयान से मची खलबली, चुनाव में टिकट को लेकर कही ये बात

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव में छह महीने का वक्त बचा है। इस बीच कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा के पहले चरण के तुरंत बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल का एक बयान चर्चा में है। दरअसल, गणेश गोदियाल ने 35 से 37 टिकट तय होने का बयान दिया है जिसने अब तूल पकड़ ली है।

 
 
Congress



देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट)
उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव में छह महीने का वक्त बचा है। इस बीच कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा के पहले चरण के तुरंत बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल का एक बयान चर्चा में है। दरअसल, गणेश गोदियाल ने 35 से 37 टिकट तय होने का बयान दिया है जिसने अब तूल पकड़ ली है।

गोदियाल का यह दांव पार्टी में बाहर से आने वाले नेताओं के लिए संकेत है या समीकरणों को पहले से ही पक्ष में करने की जुगत, इसे लेकर सियासी गलियारों में चर्चाएं तेज हो गई हैं। इसे हरीश रावत की रणनीति से जोड़कर भी देखा जा रहा है। संदेश भी साफ है कि 2022 के चुनाव में टिकट में रावत की पसंद को दरकिनार नहीं किया जा सकेगा।

चुनाव के दौरान नामांकन की अंतिम तिथि तक टिकट को लेकर पत्ते खोलने से गुरेज करने वाली प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस के प्रदेश मुखिया का समय से पहले दिए गए बयान के सियासी निहितार्थ तलाशे जाने लगे हैं। इसकी वजह भी है। यह चुनाव कांग्रेस और पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत के लिए अस्तित्व की लड़ाई बन चुका है।

गणेश गोदियाल के 35 से 37 टिकट तय होने का बयान दिया है। हालांकि इस बयान का पार्टी के भीतर ही विरोध भी हुआ। नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह इस बयान पर आपत्ति करते हुए टिकट को लेकर चर्चा होने से ही इन्कार कर चुके हैं। इसके बाद गोदियाल ने भी अपने रुख से पलटते हुए यह कहने में देर नहीं लगाई कि अभी टिकट तय होने में देर है।

From around the web