सल्ट विस. उपचुनाव | भाजपा के कोर ग्रुप की बैठक में इन नामों पर लगी मुहर !

उत्तराखंड में सल्ट विधानसभा उपचुनाव की लेकर राजनीतिक दलों ने कमर कस ली है। सल्ट विधानसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लागू भी हो गयी है। इस बीच चुनाव के मद्देनजर शनिवार को भाजपा के कोर ग्रुप की बैठक हुई।
 
सल्ट विस. उपचुनाव | भाजपा के कोर ग्रुप की बैठक में इन नामों पर लगी मुहर !

अल्मोड़ा (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड में सल्ट विधानसभा उपचुनाव की लेकर राजनीतिक दलों ने कमर कस ली है। सल्ट विधानसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लागू भी हो गयी है। इस बीच चुनाव के मद्देनजर शनिवार को भाजपा के कोर ग्रुप की बैठक हुई।

इस बीच बड़ी खबर है कि भाजपा के कोर ग्रुप की बैठक में उपचुनाव के लिए छह दावेदारों के नाम के पैनल पर मुहर लगाई गई है। कहा जा रहा है कि इनमें विधायक जीना के भाई महेश जीना, दिनेश मेहरा, यशपाल रावत, गिरीश कोटनाला, प्रताप सिंह और राधारमण शामिल हैं। अब यह पैनल केंद्रीय नेतृत्व को भेजा गया है।

वहीं इस पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने बताया कि प्रत्याशी चयन के संबंध में पार्टी का केंद्रीय पार्लियामेंट्री बोर्ड फैसला लेगा। कौशिक ने कहा कि भाजपा के दिवंगत विधायक सुरेंद्र सिंह जीना ने सल्ट क्षेत्र में बहुत बेहतर कार्य किया। वहां के निवासियों के मन में भाजपा के प्रति विश्वास है। यह विश्वास पार्टी के पक्ष में जाए, इस पर भी बैठक में विचार किया गया।

इसके अलावा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने साफ़ किया सल्ट उपचुनाव में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत का नाम नहीं है। उन्होंने कहा कि, इस संबंध में आगे विचार किया जायेगा। लेकिन इतना साफ़ है कि, मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत सल्ट से चुनाव नहीं लड़ेंगे। माना जा रहा कि वह गढ़वाल संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली विधानसभा की किसी सीट से चुनाव लड़ सकते हैं।

बता दें कि, भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह जीना के निधन के कारण विधानसभा की सल्ट सीट रिक्त हो गई थी। इस उपचुनाव के लिए  23 मार्च से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। 30 मार्च नाम वापसी का अंतिम दिन है, वहीं 31 मार्च को नामांकन की समीक्षा होगी। इसके बाद 17 अप्रैल को मतदान होगा और 2 मई को मतगणना होगी। उप-चुनाव के लिए सल्ट विधानसभा में कुल 136 बूथ बनाये गये हैं।

2017 विधानसभा चुनाव के नतीजे- साल 2017 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो 95 हजार 735 में से सिर्फ 44044 मतदाताओं ने ही मतदान किया था।बीजेपी कैंडिडेट सुरेंद्र सिंह जीना को 21 हजार 581 और कांग्रेस प्रत्याशी गंगा पंचोली को 18 हजार 677 वोट मिले थे।  इस तरह सुरेंद्र सिंह जीना ने गीता पंचोली को 2904 मतों से हराया था यानी इस सीट पर कांग्रेस और बीजेपी के बीच कांटे की टक्कर रही थी।

आपको बता दें कि सुरेंद्र सिंह जीना 2007, 2012 और 2017 में लगातार तीन बार सल्ट विधानसभा सीट से विधायक चुने गए थे लेकिन सितंबर 2020 में पत्नी की मौत के सदमे से बुरी तरह टूट चुके सुरेंद्र जीना खुद भी बाद में कोरोना की चपेट में आ गए, जिसके कारण नवंबर 2020 में उनकी मृत्यु हो गई। विधायक जीना की मृत्यु से उनकी ये सीट खाली हुई है।

From around the web