उत्तराखंड में कोरोना बेकाबू, क्या संपूर्ण लॉकडाउन की है तैयारी ? मंत्री का बड़ा बयान

हरक सिंह रावत का कहना है कि एम्स ऋषिकेश से लेकर देहरादून तक किसी भी अस्पताल में उनको ऑक्सिजन सपोर्टेड बेड नहीं मिला, क्योंकि सब जगह कोरोना पेशेंट फुल थे। अंत मे मैक्स अस्पताल में चेकअप कराने के बाद उन्हें अपने भांजे को अपने सरकारी आवास में आइसोलेट करना पड़ा।

 
उत्तराखंड में कोरोना बेकाबू, क्या संपूर्ण लॉकडाउन की है तैयारी ? मंत्री का बड़ा बयान

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड में कोरोना की रफ्तार ने सरकार की भी नींद उड़ा दी है। सरकार में मंत्री भी मानने लगे हैं कि राज्य में स्थिति नियंत्रण से बाहर हो गई है। कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत का कहना है कि कोरोना की स्थिति विस्फोटक हो गई है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की अपील की तरह अब अंतिम विकल्प रह गया है कि प्रदेश में तत्काल संपूर्ण लॉकडाउन लगा देना चाहिए, वरना स्थिति और विकराल हो जाएगी।


 

रावत ने कहा कि सोमवार को प्रस्तावित कैबिनेट मीटिंग में इस मुद्दे को रखा जाएगा। मंत्री हरक सिंह रावत के पास श्रम मंत्रालय और पर्यावरण मंत्रालय के अलावा आयुष मंत्रालय भी है।

हरक सिंह रावत का कहना है कि एम्स ऋषिकेश से लेकर देहरादून तक किसी भी अस्पताल में उनको ऑक्सिजन सपोर्टेड बेड नहीं मिला, क्योंकि सब जगह कोरोना पेशेंट फुल थे। अंत मे मैक्स अस्पताल में चेकअप कराने के बाद उन्हें अपने भांजे को अपने सरकारी आवास में आइसोलेट करना पड़ा।


मंत्री हरक सिंह का कहना है कि यह हकीकत है कि अस्पताल ओवरलोड हो गये हैं। आम आदमी का ऐसे में क्या हाल हो रहा होगा यह सोचने वाली बात है। उन्होंने कहा कि स्थिति बेहद गंभीर है, उत्तराखंड जैसे छोटे से राज्य में एक दिन में पांच हजार कोविड पॉजिटिव मरीजों का आना चिंता का विषय है।

उनका कहना है कि उनकी अधिकांश मंत्रियों से बात हुई है, सभी की लगभग यही राय है कि स्थिति संभालनी है तो तुरंत लॉकडाउन लगाया जाना चाहिए। सोमवार को कैबिनेट की मीटिंग है. मंत्री समूह की एक राय बनी तो प्रदेश में जल्द लॉकडाउन लगाया जा सकता है।

From around the web