5 साल पहले परिवार से बिछड़ी महिला को कुंभ ने फिर से मिलाया, छलक उठी सबकी आंखें

कुंभ में लोगों को बिछड़ने और मिलने के किस्से तो आपने सुने ही होंगे। इसी से जुड़ी एक भावुक कर देने वाली खबर ऋषिकेश से सामने आयी है। एक बुजुर्ग महिला अयोध्या, मथुरा, वृंदावन, गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ और केदारनाथ की यात्रा करने के बाद अर्ध कुंभ 2016 में हरिद्वार पहुंची थी। लेकिन वो वापस अपने गांव नहीं पहुंच पाई। बिछड़ने के बाद परिजनों ने महिला को हर जगह ढूंढ़ा लेकिन उसकी कोई खबर नहीं लग सकी।
 
5 साल पहले परिवार से बिछड़ी महिला को कुंभ ने फिर से मिलाया, छलक उठी सबकी आंखें

हरिद्वार (उत्तराखंड पोस्ट)  कुंभ में लोगों को बिछड़ने और मिलने के किस्से तो आपने सुने ही होंगे। इसी से जुड़ी एक भावुक कर देने वाली खबर ऋषिकेश से सामने आयी है। एक बुजुर्ग महिला अयोध्या, मथुरा, वृंदावन, गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ और केदारनाथ की यात्रा करने के बाद अर्ध कुंभ 2016 में हरिद्वार पहुंची थी। लेकिन वो वापस अपने गांव नहीं पहुंच पाई। बिछड़ने के बाद परिजनों ने महिला को हर जगह ढूंढ़ा लेकिन उसकी कोई खबर नहीं लग सकी।

सके बाद परिजनों ने थाना जोगिया उदयपुर जिला सिद्धार्थनगर में कृष्णा देवी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। जब बुजुर्ग महिला का कहीं कोई पता नहीं चला तो परिजनों ने उसे मृत मान लिया।

अब लापता होने के 5 साल बाद जब कृष्णा देवी के परिजनों को यह पता चला कि वो जिंदा है और त्रिवेणी घाट ऋषिकेश में हैं, तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। दरअसल हरिद्वार में पुलिस द्वारा सभी लोगों का सत्यापन किया जा रहा है। इसी दौरान कृष्णा देवी के बारे में पुलिस को पता। जिनकी साल 2016 में अर्धकुंभ के दौरान गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज की गई थी। पुलिस ने इस मामले की जांच की और थाना जोगिया उदयपुर जिला सिद्धार्थनगर से संपर्क साधा और कृष्णा देवी के बारे सूचना दी गई।

कृष्णा देवी को लेने उनका बेटा दिनेश्वर पाठक, पति ज्वाला प्रसाद, पुत्री उमा उपाध्याय ऋषिकेश पहुंचे। ऋषिकेश में अपनी माता को सकुशल देख बच्चों के आंख से खुशी के आंसू छलक पड़े। महिला की बेटी अपनी मां के गले से लग कर रोने लगी।

From around the web