हल्द्वानी से किस पर दांव खेलेगी कांग्रेस ? कौन होगा इंदिरा ह्रदियेश का उत्तराधिकारी ?

उत्तराखंड में आगामी विधानसभा चुनाव में करीब 6 महीने का वक्त है। बीजेपी ने नए मुख्यमंत्री की ताजपोशी कर युवा मुख्यमंत्री और 60 प्लस सीटों का चुनावी नारा देकर अपनी चुनावी तैयारी शुरु कर दी है तो वहीं कांग्रेस ने चुनाव से पहले अपनी कद्दावर महिला नेता डॉ. इंदिरा हृद्येश को खो दिया है।
 
0000
 

देहरादून (उत्तराखंड पोस्ट) उत्तराखंड में आगामी विधानसभा चुनाव में करीब 6 महीने का वक्त है। बीजेपी ने नए मुख्यमंत्री की ताजपोशी कर युवा मुख्यमंत्री और 60 प्लस सीटों का चुनावी नारा देकर अपनी चुनावी तैयारी शुरु कर दी है तो वहीं कांग्रेस ने चुनाव से पहले अपनी कद्दावर महिला नेता डॉ. इंदिरा हृद्येश को खो दिया है।

नेता प्रतिपक्ष इंदिरा ह्यदेश के निधन से कांग्रेस को जो नुकसान हुआ है, शायद ही उसकी भरपाई कभी हो पाए। इंदिरा उत्तराखंड कांग्रेस की सबसे अनुभवी नेताओं मे से एक थी और आगामी चुनाव में कांग्रेस की वापसी को लेकर इंदिरा पर बड़ा दारोमदार था। डॉ. इंदिरा हद्येश का असमय निधन प्रदेश के साथ ही कांग्रेस पार्टी के लिए एक बड़ी क्षति है।

अब सबसे बड़ा सवाल ये है कि डॉ. इंदिरा हद्येश की विधानसभा सीट हल्द्वानी से उनकी विरासत को कौन आगे बढ़ाएगा ? क्या राजनीतिक रुप से सक्रिय इंदिरा के बेटे सुमित हृद्येश पर भरोसा कर कांग्रेस पार्टी उन्हें आगामी विधानसभा चुनाव में मैदान में उतारेगी या फिर इंदिरा के रहते कांग्रेस की लिए सुरक्षित माने जाने वाली हल्द्वानी विधानसभा सीट पर कांग्रेस किसी और नेता को मौका देगी, ये बड़ा सवाल बना हुआ है।

सुमित हृद्येश हल्द्वानी विधानसभा सीट में सक्रिय रहते हैं और नगर निगम के मेयर का चुनाव भी वे हल्द्वानी नगर निगम से लड़ चुके हैं, हालंकि उन्हें बीजेपी के जोगेन्द्र रौतेला के हाथों हार का सामना करना पड़ा था।

डॉ. इंदिरा हृद्येश के निधन के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गोविंद कुंजवाल ने बयान दिया था कि इंदिरा हृदेश के चले जाने के बाद अब उनके राजनीतिक उत्तराधिकारी सुमित हृदेश होंगे। कुंजवाल ने यह भी कहा कि राजनीति उत्तराधिकारी सुमित हृदेश के अलावा अन्य किसी के बारे में सोचा नहीं जा सकता है।

कुंजवाल ने कहा कि सुमित अपनी मां इंदिरा के अधूरे सपनों को पूर्ण करने में पूरा सहयोग करेंगे और उनकी पार्टी भी साथ-साथ इंदिरा जी के सपनों को पूरा करेगी हल्द्वानी की सीट कांग्रेस की है और कांग्रेस की रहेगी।

बहरहाल विधानसभा चुनाव में वक्त कम है और सवाल ये कायम है कि हल्द्वानी से कांग्रेस किसे उम्मीदवार बनाएगी। क्या कांग्रेस सुमित पर ही दांव खेलेगी या किसी औऱ चेहरे को मैदान में उतारेगी ये तो वक्त ही बताएगा। फिलहाल तो कांग्रेस पार्टी डॉ. इंदिरा हृद्येश के असमय निधन के एक महीने बाद भी नए नेता प्रतिपक्ष के नाम पर फैसला नहीं कर पाई है।

From around the web