उत्तराखंड | शैलजा बनीं IAS ऑफिसर,UPSC में हासिल की 61वीं रैंक

संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा का परिणाम घोषित हो गया है। नैनीताल की रहने वाली शैलजा पांडे ने यूपीएससी में 61वीं रैंक हासिल की है। 
 
upse
 

नैनीताल (उत्तराखंड पोस्ट ) संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा का परिणाम घोषित हो गया है। नैनीताल की रहने वाली शैलजा पांडे ने यूपीएससी में 61वीं रैंक हासिल की है।

 शैलजा ने एनआईटी हमीरपुर से इलेक्ट्रिक एंड इलेक्ट्रानिक्स में इंजीनियरिंग किया। इंडियन ऑडिट एंड अकाउंट सर्विस में सलेक्शन होने के बाद वह अहमदाबाद में प्रशिक्षण ले रही हैं। उन्होंने सेंटमेरी कान्वेंट स्कूल नैनीताल से 2011 में हाईस्कूल और 2013 में इंटरमीडिएट की परीक्षा पास की। दोनों ही परीक्षाओं में वह टॉपर रहीं है।

शैलजा का कहना है कि अगर आप किसी प्रतियोगिता की तैयारी कर रहे हो तो आत्मविश्वास होना बेहद जरूरी है। यह आपकों फोक्स रखने में मदद करता है। एक रणनीति के साथ पढ़ाई होना जरूरी है। उन्होंने कहा कि इन सभी चीज रूटीन के साथ होनी चाहिए, जिसका पालन सख्ती के साथ हो।

शैलजा के इस सपने को पूरा करने में उनके माता पिता ने भी पूरा सहयोग किया। साल 2019 में उन्होंने आईएएस की परीक्षा दी थी जिसमे उनकी रैंक 266 आई थी लेकिन शैलजा संतुष्ट नही हुई उन्होंने इस वर्ष एक बार फिर परीक्षा दी जिसमे उन्हे 61 रैंक मिली।

मूल रूप से मझेड़ा (प्रेमपुर) गरमपानी, नैनीताल निवासी शैलजा का परिवार वर्तमान में लोअर डांडा कंपाउंड जू रोड नैनीताल में रहता है। शैलजा पांडे के पिता दीप चंद्र पांडे ऊर्जा निगम के मुख्य अभियंता हैं तो वहीं मां डॉक्टर शोभा पांडे बीडी पांडेय अस्पताल नैनीताल में डॉक्टर है।

From around the web