उत्‍तराखंड के एक और लाल ने दी देश के लिए शहादत,परिवार में मचा कोहराम

गुरुवार के दिन उत्तराखंड के लिए दो बुरी खबर सामने आई। देवभूमि के दो बेटे देश के लिए शहीद हो गए।
 
has

खटीमा (उत्तराखंड पोस्ट) गुरुवार के दिन उत्तराखंड के लिए दो बुरी खबर सामने आई। देवभूमि के दो बेटे देश के लिए शहीद हो गए।

चमोली निवासी सचिन प्रयागराज से दिल्ली आते हुए शहीद हो गए। वहीं दूसरी ओर असम राइफल्स में तैनात ऊधमसिंहनगर के खटीमा निवासी एक और जवान हयात सिंह भारत के लिए अपनो प्राणों को न्यौछावर कर गया। शहीद हवलदार हयात सिंह को सैन्य सम्मान के साथ बीते दिन अंतिम विदाई दी गई। बुधवार को बनबसा शारदा घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया।

मिली जानकारी के अनुसार 48 वर्षीय हयात सिंह पुत्र स्व. त्रिलोक सिंह महर मूल रूप से पिथौरागढ़ जौरासी जमतड़ के रहने वाले थे। जानकारी मिली है कि उल्‍फा उग्रवादियों ने 12 जुलाई को हवलदार हयात का अपहरण कर लिया था और 16 जुलाई को उनका पार्थिव शरीर मिला था। मणिपुर के दीमापुर में उनका पार्थिव शरीर मिला।

झनकट डिफेंस कालोनी निवासी हयात सिंह वर्तमान में वह 31 असम राइफल्स मणिपुर में तैनात थे। उनकी सेना में 27 साल की सेवा हो चुकी थी। 16 जुलाई को शहीद होने की सूचना मिलने के बाद परिवार में कोहराम मच गया। बता दें कि मौसम खराब होने के कारण फ्लाइट रद्द चल रही हैं जिस कारण जवान का पार्थिव शरीर 5वें दिन बुधवार को उनके घर पहुंचा।

जवान के पार्थिव शरीर को देखते ही शहीद के परिजन लिपटकर रोने लगे पत्नी बेसुध हो गई शहीद हवलदार महर अपने पीछे पत्नी चंद्रा महर, पुत्री रेखा (21) व पुत्र अमित सिंह महर (18) को रोता बिलखता छोड़ गए हैं

हवलदार के शहीद होने की सूचना पर विधायक डा. प्रेम सिंह राणा समेत बड़ी संख्या में ग्रामीण उनके आवास पहुंचे और उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए। विधायक डा. राणा ने स्वजनों को ढांढस बंधा हर संभव मदद का भरोसा दिया। वहीं बनबसा 8 जैकलाई रेजीमेंट के जवानों ने शहीद हयात के घर पहुंच अंतिम सलामी दी। इसके बाद शव को अंतिम संस्कार के लिए बनबसा स्थित शारदा घाट ले जाया गया।

 

From around the web