12 साल की बच्ची ने दी 5 लोगों को नई जिंदगी, जानें पूरी खबर

नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो) दुनिया में किसी की जान बचाने को सबसे बड़ा पुण्य का काम माना जाता है। महज 12 साल की एक बच्ची ने भी ऐसा ही काम किया है जिसने एक नही बल्कि 5 लोंगो को जिदंगी दी। हालांकि अब वह इस दुनिया में नही है।

एक हादसे में अपनी मां और दो बच्चों को गंवाने वाले इलप्पा शांताराम आरोटे ने 12 साल की ब्रेन डेड बेटी के अंगदान कर कई लोगों की जिंदगी बचा ली। इल्लपा के मुताबिक एक बार वह अपने परिवार के साथ कार में पुणे जा रहे थे। कार चलाते वक्त ड्राइवर की आंख लग गई, जिसके कार अनियंत्रित होकर खाई में जा गिरी।

इस हादसे में कार चालक, इलप्पा के एक बेटे और मां की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं, इलप्पा, उनकी पत्नी और 12 साल की बेटी घायल हो गए। बेटी को गंभीर हालात में पुणे में प्राथमिक उपचार दिया गया, लेकिन हालत बिगड़ते देख मुंबई के कोहिनूर अस्पताल भेज दिया गया।

अस्पताल में 8 दिन के इलाज के बाद डॉक्टरों ने मंगलवार को उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया। इसके बाद अस्पताल के डॉक्टरों ने इलप्पा को सुझाव दिया कि वह बेटी के अंगदान कर दूसरों की जिंदगी बचा सकते हैं। इलप्पा ने सुझाव को गंभीरता से लेते हुए अंगदान का फैसला लिया। 12 साल की बच्ची की दोनों किडनी, लिवर, हार्ट और लंग से 5 लोगों को नई जिंदगी मिली है।

(उत्तराखंडपोस्ट के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैंआप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)