इस बार दागी विधायकों की संख्या बढ़ी, BJP के 17 विधायकों पर हैं आपराधिक मामले

उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने राज्य की 70 विधानसभा सीटों में से 57 सीटें जीतकर दो तिहाई बहुमत हासिल किया है, वहीं कांग्रेस 11 सीटें तो दो सीटें निर्दलीय के खाते में आई। अब ख़बरें एक क्लिक पर इस लिंक पर क्लिक कर Download करें Mobile App –https://play.google.com/store/apps/details?id=app.uttarakhandpost

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉ‌र्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट के अनुसार उत्तराखंड के 70 विधायकों में से 22 विधायक यानि कि 31 फीसदी विधायक दागी हैं। इन 22 विधायकों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं।

8 फीसदी का ईजाफा | 2012 के मुकाबले उत्तराखंड में दागियों की संख्या इस बार बढ़ गई है। 2012 में 70 में से 19 विधायक यानि की 27 फीसदी पर आपराधिक मामले दर्ज थे तो इस बार ये संख्या बढ़कर 22 हो गई है।

14 पर गंभीर आपराधिक मामले | एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉ‌र्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट के अनुसार उत्तराखंड में 70 विधयाकों में से 14 विधायकों (20 फीसदी) पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं, जिनमें हत्या, हत्या का प्रयास, डकैती आदि के मामले भी शामिल हैं।

7 फीसदी का ईजाफा | 2012  के मुकाबले इस बार गंभीर आपराधिक मामलों वाले विधायकों की संख्या भी इस बार बढ़ गई है। 2012 में सिर्फ 5 विधायकों (7 फीसदी) पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज थे तो इस बार ये संख्या बढ़कर 14 (20 फीसदी) हो गई है।

भाजपा में 17 दागी विधायक | भाजपा के 57 विधायकों मे से 17 विधायकों (30 फीसदी) पर आपराधिक मामले दर्ज है, जिनमें से 10 विधायक (18 फीसदी) पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं।

कांग्रेस में एक दागी विधायक | कांग्रेस के निर्वाचित 11 विधायकों में से चार विधायक (36 फीसदी) पर आपराधिक मामले दर्ज हैं, जिनमें से तीन विधायक (27 फीसदी) के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज है।  

एक निर्दलीय भी दागी | वहीं इस बार निर्वाचित होकर आए दो निर्दलीय विधायकों में से एक विधायक पर गंभीर आपराधिक मामला दर्ज है।