10 मई को खुलेंगे लाटू देवता के कपाट, कुछ घंटो के लिए ही खुलते हैं

852

राज्य में शराब और खनन के बाद तीर्थाटन राजस्व का एक बड़ा जरिया है। राज्य के चार धाम यात्रा और नंदा देवी राजजात यात्रा तो जग जाहिर हैं। लेकिन राज्य के कुछ ऐसे मंदिर भी हैं जिनके बारे में दुनिया अंजान है लेकिन उनकी धार्मिक मान्यता काफी है। इन्हीं मे से एक मंदिर है तो लाटू देवता का।

नंदा राजजात यात्रा की राह के अहम पड़ाव चमोली जिले के वाण इलाके में मौजूद लाटू देवता पर स्थानीय श्रद्धालुओं की भारी श्रद्धा हैं। लाटू देवता के मंदिर के कपाट साल में सिर्फ एक बार कुछ घंटो के लिए ही खुलते हैं।

लाटू देवता के बारे में मान्यता है कि इनके दर्शन की इजाजत मंदिर के पुजारी को भी नहीं है। बैशाख पूर्णिमा के दिन कुछ घंटे खुलने वाले लाटू देवता के मंदिर के कपाट खुलने के मौके पर पुजारी भी आंखों में पट्टी बांध कर  ही लाटू देवता की पूजा-अर्चना करते हैं और भक्तोंकी भेंट चढाते हैं।

बहरहाल इस साल लाटू देवता के मंदिर के कपाट खुलने के मौके पर सूबे के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज मौजूद रहेंगे। 10 मई को कपाट खुलेंगे।