शीतकाल के लिए बंद हुए भगवान रुद्रनाथ के कपाट

रुद्रप्रयाग [उत्तराखंड पोस्ट ब्यूरो] चतुर्थ केदार भगवान रुद्रनाथ के मंदिर के कपाट मंगलवार को विधि विधान से ब्रह्ममुहूर्त में 4 बजकर 57 मिनट पर शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं।

कपाट बंद होने के वक्त उनकी भी पूजा हुई। भगवान की उत्सव डोली को लेकर रुद्रनाथ के पुजारी पंडित जर्नादन प्रसाद तिवारी के सानिध्य में सैकड़ों भक्त रुद्रनाथ से गोपेश्वर पहुंचे। अब छह माह शीतकाल में रुद्रनाथ की पूजा गोपीनाथ मंदिर में होगी। भगवान रुद्रनाथ की उत्सव डोली जब नगर में पहुंची तो भक्तों ने आरती की थाल के साथ भगवान का स्वागत किया।

(उत्तराखंड पोस्ट के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं, आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)