नौकरी वालों को लगा जोरदार झटका, कट के आएगी आपकी सैलरी, बदला ये नियम

 नई दिल्ली (उत्तराखंड पोस्ट) अगस्त महीने का आगाज हो चुका है। नए महीने में कई नियम बदल चुके हैं।

एक खास बदलाव आपकी सैलरी को लेकर भी हुआ है इस बदलाव की वजह से अगस्त महीने में आपकी टेक होम सैलरी कम आएगी।

बता दें देशभर में महामारी कोरोना संकट की वजह से सरकार ने पीएफ से जुड़े कुछ नियम बदले थे। इसमें एक नियम पीएफ का योगदान था।

इस नए नियम के चलते पीएफ योगदान को 12 प्रतिशत से घटाकर 10 प्रतिशत कर दिया गया था, जिससे कर्मचारियों की टेक होम सैलरी 2 प्रतिशत तक बढ़ जाए।

ये जरूरी नहीं, बल्कि कंपनी को कर्मचारी से पूछना था ये नियम जुलाई तक के लिए ही था इसका मतलब ये हुआ कि जिन लोगों ने भी इस नए नियम को सेलेक्ट किया था, उनकी अगस्त महीने से टेक होम सैलरी कम आएगी।

बता दें कि इस नए नियम में लोगों की टेक होम सैलरी तो बढ़ गई थी लेकिन पीएफ में योगदान कम हो गया था।

आसान भाषा में समझें तो इस नियम में सरकार ने आपके पैसे को ही पीएफ खाते में रखने के बजाए दूसरे तरीके से आपको नकद दिया है।

ईपीएफओ से जुड़े कर्मचारियों के हाथ में ज्‍यादा से ज्‍यादा नकदी पहुंचे, इसी मकसद से बदलाव किया गया था। आपको बता दें कि सामान्य तौर पर किसी भी कर्मचारी के मूल वेतन का 12 प्रतिशत योगदान कर्मचारी करता है, और इतना ही अंशदान नियोक्ता या कंपनी की ओर से भी पीएफ में किया जाता है

किसी भी कंपनी या नियोक्‍ता के हिस्से के 12 फीसदी योगदान में से 8.33 फीसदी का योगदान कर्मचारी पेंशन योजना यानी ईपीएस में होता है। जबकि, शेष 3.67 फीसदी रकम का योगदान कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) में होता है।इसके उलट, कर्मचारी के हिस्से का पूरा 12 फीसदी ईपीएफ यानी आपके पीएफ फंड में जाता है।

उत्तराखंड के रोचक वीडियो के लिए हमारे Youtube चैनल को SUBSCRIBE जरुर करें–   http://www.youtube.com/c/UttarakhandPost

Twitter– https://twitter.com/uttarakhandpost

Facebook Page– https://www.facebook.com/Uttrakhandpost

Instagram-https://www.instagram.com/postuttarakhand/